Tuesday, 27 June 2017

जिस युसुफ_शाह उर्फ सैय्यद सलाहुद्दीन (हिजबुल मुजाहिदीन का चीफ और यूनाईटेड जेहाद काऊंसिल का चीफ) को वैश्विक इस्लामिक आतंकवादी घोषित किया जा रहा है, वो पहले कांग्रेस पोषित मुस्लिम यूनाईटेड़ फ्रंट के उम्मीदवार के तौर पर 1987 का चुनाव लड चुका है ...
 सैय्यद सलाहुद्दीन उधर पाकिस्तान में फंड इकट्ठा करते पल रहा है, और यहाँ भारत में उसके पांचों बेटे सरकारी नौकरी करते मजे से पल रहे हैं। सबसे बड़ा बेटा शकील युसुफ श्रीनगर के शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइसेंस में मेडिकल सहायक है। दूसरा बेटा जावेद युसुफ शिक्षा विभाग में कम्यूटर ऑपरेटर है। तीसरा बेटा शाहिद युसुफ शेर-ए-कश्मीर एग्रीकल्चर साइंस एंड टेक्नोलॉजी विश्वविद्यालय में शोधार्थी(? ) है। चौथा बेटा वाहिद युसुफ शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइसेंस में डॉक्टर है। वहीं सबसे छोटा बेटा मुईद युसुफ कश्मीर के उद्यमिता विकास संस्थान में नौकरी करता है।
 ईरान व पाकिस्तान समर्थित आतंकवाद निर्माता - सैय्यद अलीशाह गिलानी, मीरवाईज उमर फारूख, सैय्यद सलाहुद्दीन जैसे गलीज लोग खुलेआम सरकारी सुविधाऐं पाते , सरकारी सुरक्षा में, सरकारी पैसों पर ऐश करते हुऐ पाकिस्तान जिन्दाबाद, कश्मीर की आजादी के नारे लगाते हुऐ इंडिया और इंडियन डॉग्स को गालियाँ देते होटलों में घूमते व इलाज कराते रहते हैं।
मामला जम्मू-कश्मीर से सम्बंधित है ...
 भारत को दो भागों में बांटकर एक को भारत तो दूसरे को पाकिस्तान नाम दिया गया था। पाकिस्तान के बनते ही पाकिस्तान के कायदे आज़म के इशारों पर कबाइलियों ने कश्मीर पर हमला बोल दिया था जिसके बाद तत्कालीन गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल ने भारतीय सेना को कश्मीर में पहली जंग लड़ने की इज़ाज़त दे थी और भारतीय सेना ने एक के बाद एक कई बड़ी विजयों को हासिल करते हुए लगातार कश्मीर में पाकिस्तानी सेना और कबाइलियों की टुकड़ियों को पीछे धकेलते हुए आगे बढती जा रही थी।

लेकिन तभी जो तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने किया था उसने न केवल सरदार वल्लभभाई पटेल को स्तब्ध कर दिया था बल्कि बाद में कश्मीरी पंडितों के कत्लेआम का प्रमुख कारण बना और हिन्दुस्तान के लिए पिछले 69 सालों से भारत के लिए एक सर दर्द।सरदार वल्लभभाई पटेल आज़ादी के बाद असम का दौरा करना चाहते थे असम के आस-पास के कई जिलों को पूर्वी पाकिस्तान आज के बांग्लादेश में मिला दिया गया था ।ऐसे में सरदार वल्लभभाई पटेल ने अपने सभी कार्यक्रमों को रद्द कर सबसे पहले अपना असम का दौरा तय किया और वे वहां पहुंचे। असम में सरदार लगातार 4 दिनों तक रहे 
सरदार की अनुपस्थिति का फायदा उठाकर नेहरु संयुक्तराष्ट्र पहुँच गए –
 इसी समय अच्छा अवसर जानकार प्रधानमंत्री नेहरु ने जम्मू-कश्मीर की समस्या को लेकर संयुक्तराष्ट्र संघ चले गए। नेहरु को यह अच्छी तरह से पता था कि यदि सरदार को इस बात की भनक भी लग गयी थी वे कभी भी इसकी न ही इज़ाज़त देंगे और न ही इसका वे समर्थन ही करेंगे और उनके (सरदार वल्लभभाई पटेल) के समर्थन के बगैर नेहरु के लिए केंद्र सरकार में पत्ता भी हिला पाना असंभव था। अतः उन्होंने ने सरदार की अनुपस्थित का फायदा उठाते हुए जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को लेकर संयुक्तराष्ट्र संघ की अदालत पहुँच गए।
जब सरदार अपने 4 दिनों के असम के प्रवास को ख़त्म कर दिल्ली वापस आये और उन्हें यह पता चला कि कि जवाहरलाल नेहरु ने उनकी अनुपस्थित का लाभ उठाते हुए ऐसा किया है तो वे एकदम स्तब्ध रह गए मानों उनके पैरों के नीचे से किसी जमीन ही खींच ली हो।
पूरी दुनिया में लौहपुरुष के नाम से प्रसिद्द ब्यक्ति जिसने दुनिया दारी के हर तूफ़ान का डट कर सामना किया था अंग्रेजों और मुस्लिम लीग के हर नापाक इरादे को नाकाम किया था आज वह सरदार एक दम हताश हो चुके थे। हताशा से भरे हुए गमगीन और दुखी मुद्रा में सरदार ने कहा कि, ‘जिले स्तर का एक सामान्य वकील भी यह जानता है कि यदि फरियादी के रूप में आप अदालत में जाकर खड़े होते है तो समग्र मुकदमा सिद्ध करने की जिम्मेदारी आपकी ही हो जाती है, आरोपी को तो बस इसे केवल नकार देना होता है।
सरदार ने आगे कहा कि, ‘जवाहरलाल ने इतनी जबरदस्त गलती की है कि है कि एक दिन वे बहुत पछतायेंगे और खून के आँशु रोयेगा।
फोटो मे जो सैनिक दिख रहें हैं, इनका नाम है डी.रामाकृष्ण..!! मेरे साथ अभी दिल्ली से चेन्नई जा रही तमिलनाडु एक्सप्रेस मे यात्रा कर रहें हैं..!! इनकी तैनाती कश्मीर के “तंगधार" मे है..!!
जहां बी एस एफ का हैड-क्वार्टर है.. लेकिन इनकी ड्यूटी वहां से चौदह हजार फीट की ऊंचाई पर है..!!
जहां सांस लेने के लिये , ऑक्सीजन भी तोल कर मिलती है..!!
राम-कृष्ण जी घर जा रहे हैं ... छुट्टी पर..!! जो कि आन्ध्र-प्रदेश के ईस्ट-गोदावरी जिले मे है...!!
तीन दिन पहले निकले थे, छुट्टी पर..!! एक दिन की पैदल यात्रा कर तंगधार हैड-क्वार्टर पहुंचे..!! हैड-क्वार्टर से श्री नगर ..श्री नगर से जम्मू होते हुए नई-दिल्ली स्टेशन पहुंचे..गाड़ी डिपार्चर से एक घंटा पहले..!!!
इनका रिजर्वेशन नहीं था..तो नई दिल्ली स्टेशन पर किसी ऐजेंट के झांसे मे आ गए..!! वो इनको “अजमेरी गेट" साईड , नजदीक के ऑफिस मे ले गया..!! उसने पहले तो इनको थर्ड एसी का टिकिट दो-चार सौ एक्स्ट्रा चार्ज पर उपलब्ध कराने की बात कही..!!
ये कहकर हजार रुपये लिये.. फिर इनसे इनका आईडेंटिटि कार्ड लिया.. रिजर्वेशन के बहाने..!!
थौड़ी देर के बाद , वो इनसे साढ़े बारह हजार रूपये की डिमांड करने लगा..!!
जो कि राम-कृष्ण जी ने सिरे से खारिज कर दिया..ये कहकर कि इतनी तो फ्लाईट की टिकिट भी नहीं होती..!! आप मुझे स्लीपर की टिकिट अरेंज कर दीजीये..!!
फिर उसने , एक सैकंड-स्लीपर की टिकिट थमा दी..!! और टोटल छ:हजार मांगने लगा..!!
इन्होने कहा.. मुझे नहीं चाहिये टिकिट..!!
लेकिन फिर वो और उसके चेले (जो पहले से वहां मौजूद थे) इन्हे धमकी देने लगे कि, आपका आई-कार्ड नहीं देंगे..!!
उधर, गाड़ी छूटने का समय हुआ जा रहा था..!!
राम-कृष्ण जी, बुरी तरह फंस चुके थे.. लड़ाई-झगड़ा करते तो भी कोई फायदा होता नजर नहीं आ रहा था..!! रात का समय था, अकेले थे, ढेर सारा लगेज भी था..हिंदी भी काम-चलाऊ बोल पीतें हैं..!!
ऐसा नहीं है कि ये उनका मुकाबला नहीं कर सकते थे, लेकिन गाड़ी के समय और हालात ने इन्हे लाचार कर दिया..!!
छुट्टी पर घर लौटते सैनिक की मनो-स्थिति आप अच्छी तरह समझ सकतें हैं, और खास कर उस सैनिक की, जो तंगधार जैसी दुनिया की सबसे दुर्गम परिस्थितियों मे तैनात हो..!!
तीन दिन की लगातार यात्रा ने राम-कृष्ण जी को पहले ही पस्त कर रखा था, ऊपर से आई-कार्ड जाने के डर से हालात से समझोता करना पड़ा..!!
बहरहाल.. राम-कृष्ण जी ने रुपये देकर , पीछा छुड़ाना ही मुनासिब समझा..!! उस हरामखोर ने इनका कार्ड पड़ोसी की स्वाईप मशीन मे स्वाईप किया..!! जिस पर “श्री बाला जी टेलिकोम” का नाम छपा है (आप सलग्न फोटो मे रशीद देख सकतें हैं)
(अब , दिल्ली के मित्रों को ये पता लगाना ज्यादा मुश्किल नहीं होगा कि वो कौन था..!!
जैसा कि राम-कृष्ण जी बता रहें हैं, नई-दिल्ली स्टेशन पर अजमेरी गेट साईड CRPF की चोकी के नजदीक ही उसकी कोई दुकान नुमा ऑफिस है...!!!)
दो हजार रुपये कैश लिये और कार्ड ट्रांजैक्शन हुआ..3820का..!!
टोटल 5820 रूपये देश के उस वीर सैनिक के ठग लिये गये, जिसकी बदौलत वो हरामखोर, चैन की नींद सोता है..!!
ये स्लीपर की टिकिट लेकर, जैसे तैसे...गाड़ी छूटने से दो मिनिट पहले पहुंचे..!!
टी टी ई ने जब इनका टिकट चैक किया तो बोला कि ये सीट तो किसी महिला के नाम से बुक है..!!
अब राम-कृष्ण जी पूरी तरह सदमे मे आ गये..!! हम-आप भी ऐसी परिस्थिति मे, ऐसे ही डिप्रेशन मे जा सकतें हैं..!!
किसी तरह टी टी ई से बात करके इनको वो सीट मिल पाई..!!
इस पोस्ट से मेरा उद्देश्य एक तो ये है कि …
आप कभी भी ऐजेंटों के चक्कर मे ना फंसे...!! अपना एडवांस रिजर्वेशन करवा कर चलें, क्योंकि आप तंगधार जैसी जगह पर नहीं रहते,..आपके हाथ मे स्मार्ट फोन है..उसका अधिकाधिक उपयोग कीजीये...!!
रेलमंत्री के अथक प्रयासों से रेल यात्रा दिनो-दिन सुगम होती जा रही है..!!
और दूसरा उद्देश्य ..उस हरामखोर को किसी तरह दबोचा जाये ,जो हराम की कमाई के लिये, देश के सैनिक को भी नहीं छौड़ता..!! जबकि वर्तमान मे देश की जनता के मन मे इनके लिये अथाह सम्मान और आदर पनप रहा है..!! किसी तरह ये सूचना विभिन्न मंत्रालयों तक पहुंचे..!! हो सके तो प्रधान सेवक जी तक भी.. तांकि ऐसे लोगों की गांव कूटी जा सके..!!
हालांकि, राम-कृष्ण जी ने भी , मन बना लिया है कि घर से वाप स लौटने पर वो अपनी विकराल स्वरूप अवश्य दिखाऐंगे..!!
आप भी थौड़ा कर्तव्य निभाएं..देश के सैनिक को न्याय दिलवाएं..!!
बात छोटी नहीं है..उठी है तो दूर तक जायेगी..!!
लगाओ जोर..
***********************************
राम-कृष्ण जी का मोबाईल नंबर 9002473389

घुटने हाथ एड़ी और कमर के दर्द में आराम दिया आक ने ...

आक जिसको मदार, आकड़ा, अर्क, अकद, इत्यादि नामो से जाना जाता है, भारतीय चिकित्सा विज्ञान में अति प्राचीन काल से यह एक दिव्य औषिधि रही है. इसके बारे में एक बात प्रचलित है के यह सूर्य के तेज़ के साथ बढ़ता है और सूर्य के तेज़ कम होते होते इसका प्रभाव भी कम होता जाता है. और बारिश के दिनों में इस पौधे का प्रभाव बिलकुल खत्म जैसा हो जाता है. सूर्य के जितने नाम हैं उतने नाम ही आक के भी हैं.
इसकी वैसे तो 4 प्रजातियाँ हैं मगर मुख्यतः दो प्रजातियाँ ही पायी जाती है. दो प्रजातियाँ अति दुर्लभ हैं.
Calotropis procera इसको इंग्लिश में swallow wort कहते हैं. Calotropis giginata इंग्लिश में इसे giant milk weed कहते है. यह Asclepidaceae परिवार से है सामान्य भाषा में इनके नाम ऊपर बता ही दिए गए हैं.
वैसे तो आक ऐसा कोई रोग नहीं है जिसमे इसका उपयोग ना हो, यह भयंकर से भयंकर रोग में भी अपना विशेष असर दिखाता है. मगर हम आज इसके एक गुण जो के शरीरक दर्द को हरने का है, उस पर चर्चा करेंगे, के इसमें ऐसे क्या गुण पाए जाते हैं जिस कारण से ये अति विशेष है. आइये जानते हैं.
आक में पाए जाने वाले प्राकृतिक Steroid, Alkaloid, Triterpenoids, Cardenolides और Saponin glycoside पाए जाते हैं. आक में ये सब रसायन होने के कारण इसमें शरीर में हर हिस्से में दर्द को हरने की क्षमता पायी जाती है, Specially गठिया का दर्द, Arthritis का दर्द, कमर दर्द, एड़ी का दर्द, अर्थात Musculoskeltan यानी कोई भी मांस पेशियों और हड्डियों से सम्बंधित कैसा भी दर्द हो उसमे इसके निरंतर इस्तेमाल करने से आश्चर्यजनक परिणाम मिलते हैं.

सावधानी.

इन प्रयोग को करने से पहले आप ये ध्यान दें के इसके दूध की बूँद आँखों में नहीं जानी चाहिए अन्यथा आँखों में अंधापन आ सकता है.
आइये जानते हैं अभी विभिन्न दर्दों में विभिन्न प्रयोग.

एड़ी के दर्द में.

  1. आक के 15 फूलों को एक कटोरी पानी में उबाल लीजिये, इसको उबालने के बाद फूलों को और पानी को अलग अलग कर लीजिये, अभी इस पानी से जितना गर्म सह सके एड़ी को अच्छे से धुलाई करें. अभी इन फूलों को अच्छे से निचुड़ जाने के बाद कोई सूती कपडे की सहायता से एड़ी पर बाँध लों. और इसके ऊपर से जुराब और जूते पहन लें. ये प्रयोग आपको 10 से 15 दिन करें. काफी फर्क दिखने पर अगर ज़रूरत लगे तो इसको और भी continue कीजिये.
  2. आक के पत्ते को तवे पर गर्म कर लीजिये, इस पर हो सके तो तिल का तेल लगायें, आगर तिल का तेल ना मिले तो सरसों का तेल लगायें, अभी इस पत्ते को किसी कपडे की सहायता से एड़ी पर बाँध दीजिये, अभी इसको किसी चीज से गर्म सिकाव कीजिये, किसी ईंट या पत्थर को चूल्हे पर गर्म कर लीजिये, इतना गर्म कीजिये जितना आप सहन कर सको, इस को अभी पत्ते के ऊपर से ऐड़ी पर सिकाव कीजिये. इस से पत्ते के अन्दर के रसायन एड़ी के दर्द वाली जगह के अन्दर तक जायेंगे. और वहां पर तुरंत ही आराम का अहसास होगा ये प्रयोग भी आप 10 से 15 दिन करें. काफी फर्क दिखने पर अगर ज़रूरत लगे तो इसको और भी continue कीजिये.
  3. तीसरा सहज प्रयोग ये है के आक का दूध निकाल कर इसको एड़ी पर अच्छे से रगड़ें, इतना रगड़ें, के ये अन्दर तक अवशोषित हो जाए. थोड़े दिन ऐसा करने से इसमें आराम आ जायेगा. एक बार तो तुरंत भी असर दिखायेगा.

घुटनों के दर्द में.

  1. घुटनों के दर्द में दोपहर में आक की ताज़ी डंडी से दूध निकाल  कर इसको हलके हाथ से circular motion में मालिश करनी है जब तक ये पुरा अवशोषित न हो जाये . ऐसा दिन में दो बार करे ये प्रयोग भी आप 10 से 15 दिन करें. काफी फर्क दिखने पर अगर ज़रूरत लगे तो इसको और भी continue कीजिये.
  2. आक की ताजे पत्तो को तवे पर हल्का गर्म करे और उसके ऊपर सरसों या तिल का तेल लगाये और अब आप इसको घुटनों पर किसी सूती कपडे की सहायता से बांध ले और फिर इसका गर्म सिकाव करे

कमर के दर्द में .

आक के दूध को थोड़े काले तिलो के साथ खूब खरल कर लें. (खरल रसोई में पड़ी हुयी मसाला कूटने वाली को बोलते हैं) जब यह पतला लेप सा हो जाए तो उसे गर्म कर के दर्द वाले स्थान पर लगा कर अच्छे से मालिश करे जिस से ये तेल अब्सोर्ब हो जाए और इसके बाद आक के पत्ते पर तिल का तेल या सरसों का तेल चुपड कर तवे पर गर्म करके इसको दर्द वाले स्थान पर बाँध लें. इस से शीघ्र ही लाभ होगा.

इनमे कम करेगा काम.

  • अगर दर्द एनीमिया की वजह से हो.
  • फ्रैक्चर की वजह से दर्द हो – तो ये बहुत धीरे धीरे असर करेगा.
  • Osteoporosis – इसके लिए आपको इसके साथ में कैल्शियम का भी सेवन करना होगा. उसके बाद ही आपका दर्द आराम होगा.
  • Uncontrolled diabetes
उपरोक्त नुस्खे हमने खुद 4 मरीजों पर आजमाए और उन सबको 10 मिनट में सकारात्मक परिणाम मिलें हैं.

हिन्दुओ पर हो रहा अत्याचार, भारतीयों को तो नहीं पता पर अमरीका में पेश की गयी रिपोर्ट

बहुत तेज़ी से किया जा रहा है हिन्दुओं का दमन…!
सेकुलर हिन्दुओं की आँखें खोलने के लिए विश्व की सबसे पहली हिन्दू मानवाधिकार रपट जारी…!
हिन्दुओं के खिलाफ विधर्मियों के दमन, शोषण, अत्याचार और नरसंहार का एक लंबा इतिहास रहा है। विशेष रूप से उन मुल्कों में, जो इस्लामी छत्रछाया में पल रहे हैं या मजहबी राष्ट्र हैं। पाकिस्तान, बंगलादेश सहित भारत के जम्मू-कश्मीर प्रदेश में हिन्दुओं के विरुद्ध अत्याचार की मानो सभी हदें पार हो चुकी हैं।
अमरीका में बसे भारतवंशियों की संस्था हिन्दू-अमरीकन फाउंडेशन ने दुनियाभर में कार्यरत विभिन्न मानवाधिकार समूहों की उन तार्किक रपटों का अध्ययन किया है जिनमें हिन्दू नरसंहार, नस्लीय परिमार्जन, आतंकवाद और इस्लामी मजहबी कानूनों का शिकार हुए हैं। दक्षिण एशिया पर खास गौर किया गया है। इन विश्वसनीय और दस्तावेजी रपटों के गहन अध्ययन और विश्लेषण के बाद 71 पृष्ठ की एक विस्तृत रपट जारी की गई है।
विश्व में अपनी तरह की यह सबसे पहली रपट 13 जुलाई को अमरीका में एक कार्यक्रम में जारी की गई। रपट में पाकिस्तान, बंगलादेश और भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य में हिन्दुओं के दमन का सिलसिलेवार विवरण दिया गया है।
उल्लेखनीय है कि अमरीका में भारतवंशियों ने आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक क्षेत्रों में जिस तरह से अपनी एक खास जगह बनाई है उसी का परिणाम है कि अमरीकी नीति-निर्धारक हिन्दुओं की बातों और आकांक्षाओं की अनदेखी न करके उनके निराकरण का रास्ता तलाशने लगे हैं। हिन्दू-अमरीकन फाउंडेशन अमरीका में बसे 20 लाख हिन्दुओं का मंच है। यह दुनियाभर में हिन्दुओं से जुड़े मुद्दों पर नजर रखता है। हिन्दू अमरीकन फाउंडेशन के निदेशक मण्डल के सदस्य हैं मिहिर मेघानी, असीम आर.शुक्ला, निखिल जोशी और संजय गर्ग।
इस रपट पर पहली बार अमरीकी सांसदों ने भी खुलकर स्वीकारा है कि हिन्दुओं के खिलाफ अत्याचार हो रहे हैं। भारत और अमरीकी भारतीयों के संसदीय “काकस” की अध्यक्ष इलियाना रोस लेहटिनन ने रपट पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि हिन्दुओं के विरुद्ध मानवाधिकार उल्लंघन की घटनाओं की अब और अनदेखी नहीं की जानी चाहिए। हिन्दू अन्य मत-पंथों व उनके अनुयायियों के प्रति हमेशा से ही मैत्रीभाव रखते आए हैं, फिर भी हिन्दू दशकों से तकलीफें और दर्द सहते आए हैं, दुनिया का भी उनकी पीड़ा की ओर कभी ध्यान नहीं गया।
सांसद गैरी एकरमन का कहना था कि यह रपट दुनियाभर में हिन्दुओं के अधिकारों की रक्षा करने में मदद करेगी। यह रपट ऐसा वार्षिक प्रकाशन है जिसमें वे सब मानवीय त्रासदियां दस्तावेज के रूप में होंगी जिन पर अमरीकी विदेश विभाग, एमनेस्टी इंटरनेशनल और ह्रूमन राइट्स वाच जैसी अंतरराष्ट्रीय संस्थाएं गौर नहीं करतीं या अनदेखा कर देती हैं। हिन्दू-अमरीकन फाउंडेशन के कार्यकारी परिषद सदस्य रमेश राव के अनुसार, पिछले एक साल में ही बंगलादेश, पाकिस्तान और भारत के जम्मू-कश्मीर में हिन्दुओं की हत्या, बलात्कार, यातनाओं आदि के 600 से अधिक मामले दर्ज हुए हैं। हिन्दुओं के विरुद्ध अत्याचारों की अब और अनदेखी नहीं की जा सकती। यह संतोष की बात है कि अमरीकी संसद के नेता इस त्रासदी की असलियत जान गए हैं और इसके विरुद्ध आवाज बुलंद करने का मन बना चुके हैं।
रपट में बंगलादेश पर विशेष रूप से टिप्पणी की गई है जहां हिन्दू विरोधी कार्रवाइयों का लंबा इतिहास रहा है, जो बंगलादेश नेशनल पार्टी और जमाते-इस्लामी गठबंधन के उभार के बाद और बढ़ गई हैं। 1947 में वहां 30 प्रतिशत हिन्दू आबादी थी, आज महज 10 प्रतिशत है। रपट आरोप लगाती है कि लगभग 2 करोड़ बंगलादेशी हिन्दुओं का कम होना वहां जारी नरसंहारों और बलात् पलायन को मजबूर करने का ही परिणाम है। हिन्दू अमरीकन फाउंडेशन के निदेशक मंडल के सदस्य डा. असीम शुक्ला कहते हैं कि बंगलादेश के हिन्दुओं के लिए यातना, भेदभाव और प्रत्यक्ष हिंसा एक भयानक वास्तविकता बन गई है। अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बंगलादेश सरकार से वहां जारी पांथिक परिमार्जन और अल्पसंख्यकों के मानवाधिकारों के दमन पर जांच कराने की मांग करनी चाहिए।
इस हिन्दू मानवाधिकार रपट में पाकिस्तान और अल कायदा द्वारा प्रायोजित आतंकवाद पर खास चर्चा की गई है। भारत के जम्मू-कश्मीर प्रदेश में इस आतंकवाद ने हजारों हिन्दुओं का जीवन लील लिया है, लाखों को बेघरबार किया है और घाटी को हिन्दूविहीन कर दिया है। पाकिस्तान को भारत में आतंकवाद प्रायोजित करने का दोषी ठहराते हुए उसकी भत्र्सना की गई है। वहां लम्बे-चौड़े कुफ्र-विरोधी कानूनों के जरिए हिन्दुओं से मजहबी भेदभाव करने के सरकारी रवैए की चर्चा है। वहां गुलाम जैसी परिस्थितियों में हिन्दुओं से बंधुआ मजदूर की तरह व्यवहार करने की असंख्य घटनाओं की अनदेखी का पाकिस्तान सरकार पर आरोप लगाया गया है।
फाउंडेशन की कार्यकारी परिषद सदस्य और रपट तैयार करने में सहभागी शीतल डी. शाह का कहना है, हालांकि फाउंडेशन भारत-पाकिस्तान के बीच स्थाई शांति के प्रयासों का समर्थन करता है। लेकिन कश्मीर घाटी में हाल ही में हिन्दुओं के विरुद्ध हुईं घटनाओं के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदारी से मुक्त नहीं किया जा सकता है। वहां जुलाई में ही हिन्दुओं के एक प्रमुख मंदिर पर हमला निदंनीय है।
अमरीकी सांसदों से मिले समर्थन को लेकर फाउंडेशन में उत्साह है। रपट के पहलुओं पर अमरीकी संसद में प्रस्ताव लाने पर भी विचार किया गया है। सांसद लेहटिनन और सांसद एकरमन ने कहा कि इन मानवाधिकार के मुद्दों पर वे फाउंडेशन का सहयोग करते रहेंगे। सांसद लेहटिनन ने इस मुद्दे पर फाउंडेशन द्वारा गुंजाए गए आह्वान की प्रशंसा की। आइए अब एक नजर डालते हैं रपट में उल्लिखित उन चंद घटनाओं पर जो हिन्दुओं के विरुद्ध बर्बर, जिहादी मानसिकता की असलियत बताती हैं।
बंगलादेश में आतंक:
जनवरी से नवम्बर, 2004 के बीच यहां बंगलादेशी हिन्दुओं पर हमले की 400 घटनाएं दर्ज की गई हैं। इनमें हत्या, बलात्कार, अपहरण, मंदिर तोड़ने और शारीरिक हमले की वारदातें शामिल हैं। बंगलादेश में हिन्दुओं को “दुश्मन” की संज्ञा दी गई है। 1965 के शत्रु सम्पदा आदेश-2, जिसके तहत हिन्दुओं की सम्पदा को शत्रु सम्पदा के रूप में चिन्हित किया गया है, का नाम बदलकर 1972 में निहित सम्पदा कानून कर दिया गया, जिसके अंतर्गत बंगलादेश सरकार ने खुद में कथित शत्रु सम्पदा निहित कर ली है। यह आदेश आज भी लागू है और राष्ट्रपति द्वारा आदेशित इस कानून पर अभी तक न्यायिक पुनर्समीक्षा नहीं की गई है।
1947 में वहां कुल आबादी में 30 प्रतिशत हिन्दू थे। 1961 आते-आते हिन्दुओं की आबादी घटकर 19 प्रतिशत हो गई। 1974 के आंकड़ों में मात्र 14 प्रतिशत हिन्दू थे। 2002 की जनसंख्या में हिन्दुओं का प्रतिशत कुल जनसंख्या में महज 9 रह गया था। भारत में मुस्लिम जनसंख्या से अगर इसकी तुलना करें तो देखेंगे कि 1947 में जहां भारत में 10 प्रतिशत मुस्लिम थे, 2001 में उनका प्रतिशत बढ़कर 13.2 हो गया था। बंगलादेश में सन् 1991 तक 2 करोड़ हिन्दुओं का कोई रिकार्ड नहीं था या उन्हें “लापता” कह दिया गया था। बंगलादेश में सत्ता पर जबसे बी.एन.पी. और जमाते इस्लामी गठबंधन काबिज हुआ है तब से हिन्दुओं के विरुद्ध यातनाओं का एक अंतहीन सिलसिला चल रहा है। चूंकि बी.एन.पी. की प्रमुख विपक्षी पार्टी शेख हसीना की आवामी लीग को हिन्दू मत ज्यादा मिलते थे। अत: हिन्दुओं को राजनीतिक विद्वेष का शिकार भी होना पड़ा। बी.एन.पी. आवामी लीग पर “भारत की एजेंट” होने का आरोप लगाती रही है और इसी वजह से वह हिन्दुओं को निशाना बनाने को सही ठहराती रही है। उसका मानना है कि हिन्दुओं के अपने धार्मिक तीज-त्योहार मनाने से बंगलादेश के इस्लामी चरित्र पर खतरा मंडराने लगा है। बी.एन.पी. के नेतृत्व वाले गठबंधन में चार में से दो-जमाते इस्लामी और इस्लामी एक्य जोट-कट्टर मजहबी तंजीमें हैं। जैसा कि अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों ने पाया है, ये तंजीमें ओसामा बिन लादेन की समर्थक हैं और बंगलादेश में तालिबान की तर्ज पर शासन चलाने की पैरवी करती रही हैं। बेगम खालिदा जिया की बी.एन.पी. का इनको सीधा समर्थन और इस्लामी कट्टरवाद की पैरवी और हिन्दू समाज पर उसके दुष्परिणाम, आज बंगलादेश में खुलेआम दिखते हैं।
बी.बी.सी. ने खबर दी थी कि मुस्लिम मजहबी स्कूल, जिन्हें मदरसा कहते हैं, दूसरे मत-पंथों के खिलाफ बच्चों के दिमाग में जहर भरते हैं। इसकी रपट में कहा गया, “हालांकि प्राइमरी स्तर पर अंग्रेजी, गणित और विज्ञान जैसे विषय तो रखे गए हैं, पर पाठक्रम में अब भी कुरान और मध्य एशियाई भाषाएं ही प्रमुख हैं। “पुराने छात्र तो बस यही पढ़ते हैं। पंद्रह साल का मोहम्मद जकारिया कुछ अलग ही किस्म का है। उसके पिता नारायणगंज के बाजार में कमीजें बेचते हैं और परिवार के पास पेट भरने लायक पैसा ही होता है।
मोहम्मद की तमन्ना मौलवी बनने की है। अपने एक कमरे के घर के बाहर बैठा मोहम्मद कहता है, “मैं इस्लाम का प्रचार करना चाहता हूं, मैं हिन्दुओं को मुसलमान बनाना चाहता हूं।”
8 सितम्बर, 2004 को द स्टेट्समैन ने भारतीय गुप्तचर संस्था “रॉ” के पूर्व अधिकारी बिभूति भूषण नंदी का एक लेख छापा था, जिसमें लिखा था, “2001 में बंगलादेश में चुनाव के बाद बी.एन.पी. और जमात के लोगों ने हिन्दुओं को खदेड़ बाहर करने का अभियान चलाया था। हत्या, लूट, फिरौती, दंगे और सामूहिक बलात्कार के रूप में दहशत फैलाई गई और बड़ी संख्या में हिन्दुओं को पलायन के लिए मजबूर कर दिया गया।”
अक्तूबर, 2004 में द डेली स्टार की रपट थी कि बागेरहाट हिन्दू वेलफेयर ट्रस्ट द्वारा संचालित एक प्रौढ़ शिक्षा केन्द्र में एक हिन्दू शिक्षिका का बंदूक की नोंक पर सामूहिक बलात्कार किया गया। बलात्कारी बी.एन.पी. की बागेरहाट शाखा से जुड़े थे। इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई। नवम्बर, 2004 में दैनिक संगबाद अखबार ने दिनाजपुर जिले में कानन बाला की यातना का समाचार छापा था। छह लोगों ने कानन बाला को उसके घर से निकालकर पेड़ के साथ बांध दिया, उसके मुंह में कपड़ा ठूंस कर प्रताड़ित किया गया। कानन बाला ने जब पानी मांगा तो उन अत्याचारियों ने उसके मुंह पर कथित पेशाब किया। उनमें से एक को पकड़ लिया गया, पांच खुले घूमते रहे। नवम्बर 2004 में ही डेली स्टार ने एक अन्य घटना की खबर छापी जिसमें धारमाई गांव के हिन्दुओं की पीड़ा थी। जमीन पर कब्जा करने आए 30 हमलावरों ने आठ हिन्दुओं को बुरी तरह मारा। पुलिस अब तक उन्हें पकड़ नहीं पाई है। ऐसी और इसी तरह की कितनी ही घटनाएं सिलसिलेवार रूप से इस रपट में दी गई हैं।
पाकिस्तान में भेदभाव:
1947 में बंटवारे के समय पाकिस्तान में हिन्दू आबादी कुल आबादी की लगभग एक चौथाई थी। उदाहरण के लिए, 1947 में कराची की आबादी 4,50,000 थी जिसमें 51 प्रतिशत हिन्दू थे और 42 प्रतिशत मुस्लिम। 1951 में कराची की आबादी बढ़कर 11.370 लाख थी जिसमें भारत से पलायन करके गए 6,00,000 मुस्लिम भी शामिल थे। 1951 में वहां 96 प्रतिशत मुस्लिम थे और 2 प्रतिशत हिन्दू। 1998 आते-आते पूरे पाकिस्तान में हिन्दुओं की जनसंख्या 1.60 प्रतिशत रह गई। ताजा जनसंख्या सर्वेक्षण में तो हिन्दुओं की और घटी हुई संख्या दिखेगी। हिन्दुओं का अपहरण तो अब वहां लाखों डालर का उद्योग जैसा बन गया है। पाकिस्तान का संविधान पांथिक स्वतंत्रता की बात करता है। लेकिन व्यवहार में इस स्वतंत्रता पर सरकार ने सीमाएं बांधी हुई हैं। चूंकि स्वतंत्रता के समय पाकिस्तान ने खुद को इस्लामी गणतंत्र घोषित किया था, इस्लाम आज उस देश की सोच का केन्द्रीय तत्व बना हुआ है। यही वजह है कि पांथिक स्वतंत्रता कानून, सार्वजनिक आदेश और नैतिकता इस्लाम के आईने में देखी जाती है। इस्लाम या इसके पैगम्बर के खिलाफ किसी भी तरह का भाषण अथवा कृत्य बर्दाश्त नहीं किया जाता। संविधान की मांग है कि कुछ कानून इस्लाम की हदों के भीतर रहें। यह बात अमरीकी विदेश विभाग की अंतरराष्ट्रीय पांथिक स्वतंत्रता पर 2004 में जारी रपट में लिखी गई है।
अक्तूबर, 2004 में द डान अखबार में अमीर जलाल ने लिखा कि पाकिस्तान के सिंध सूबे में “अपहरण आज आम चलन बन गया है, जहां सामने दिखने वाले अपराधियों की बजाय उनकी भूमिका ज्यादा संदिग्ध है जो दिखाई नहीं देते।”
नवम्बर, 2004 में प्रकाशित एक रपट “सार्वजनिक स्थानों पर होने वाले विवाह समारोहों में दावत पर पाबंदी सर्वोच्च न्यायालय ने बरकरार रखी” पाकिस्तान में हिन्दू-मुस्लिम रिश्तों पर काफी रोशनी डालती है। रपट में सर्वोच्च न्यायालय का निष्कर्ष था कि दावत देना और धन का बढ़-चढ़कर रुतबा दिखाना गैर-इस्लामी है। सर्वोच्च न्यायालय का मानना था कि ज्यादा लोकप्रिय रीति रिवाज हिन्दू मूल के हैं और निकाह के इस्लामी विचार से इसका कोई लेना-देना नहीं है। इस फैसले से साफ हो गया कि पाकिस्तान में हिन्दुओं का दर्जा “विदेशी” या “बाहरी” का है और उनकी विरासत को वहां के सामाजिक रूप-रंग के आवश्यक तत्व के रूप में नकार दिया गया है।
बी.बी.सी. की रपट “लाइफ एज ए मार्डन स्लेव इन पाकिस्तान”, में कहा गया था कि दक्षिण पाकिस्तान के सिंध सूबे में करीब 20 लाख लोग “बंधुआ मजदूर” के रूप में जमींदारों से बंधे हुए हैं। यह तो तब की बात है जबकि 12 साल पहले ही पाकिस्तान इस चलन पर रोक लगा चुका था। इस चलन में था कि जमींदार अपने मजदूरों को कर्जे में बांध देते थे। यह कर्जा भी हजारों रु. का होता था जो कामगारों द्वारा असल में लिए गए उधार से कहीं ज्यादा था और इस तरह वे उनकी गुलामी के लिए मजबूर कर दिए जाते थे। आज भी वहां यही हो रहा है। ज्यादातर कामगार हिन्दू हैं।
बी.बी.सी. के “स्लेवरी टुडे” कार्यक्रम में शांति नामक महिला ने बताया, “कई लोगों के साथ मेरा भी अपहरण किया गया था। एक छोटे कमरे में मुझे बंद कर दिया। फिर उस जमींदार ने, जिसने अपहरण किया था, मुझसे जबरदस्ती की। “शांति ने बताया कि जिस जमींदार के लिए उसका परिवार काम करता था, उसी ने उसका अपहरण किया था। उसने यह भी बताया कि अपहरण के समय वह दो माह की गर्भवती थी। उसने आगे कहा, “जमींदार ने कहा था कि जब वह उसको अपने यहां रख लेगा तभी उसके (शांति के) घर वाले लौटकर यहां आएंगे। उसने मुझसे बलात्कार किया और कहा कि क्योंकि अब उसका परिवार यहां खेत पर काम नहीं करता इसलिए उसे मेरा बलात्कार करने का हक है।” पाकिस्तान में ऐसे कई कानून और कायदे हैं जिनके जरिए वहां गैर-मुस्लिमों के साथ बहुत भेदभाव किया जाता है। कुफ्र-विरोधी कानून का सहारा लेकर पैगम्बर-मोहम्मद की आलोचना के आरोप में बिना मुकदमा चलाए लम्बे समय के लिए जेल में बंद कर दिया जाता है। पासपोर्ट पर मजहब लिखना आवश्यक है। 1979 का हुदूद अध्यादेश (जिना का अपराध, कजफ का अपराध, कोड़े लगाने की सजा का अनुपालन), 1984 का कानून-ए-शहादत आदेश और 1991 का कैसास व दियात अध्यादेश (धारा 306 सी) जैसे कानून विशेष रूप से विभेदक हैं।
भारत (जम्मू-कश्मीर) में जारी है जिहाद:
कारगिल पुनर्समीक्षा समिति की रपट के अनुसार इस पूर्व रियासत का कुल क्षेत्रफल 85,807 वर्ग मील है। इसमें से 30,160 वर्ग मील पर पाकिस्तान का कब्जा है, जिसमें से शाक्सगम घाटी का 2000 वर्ग मील का हिस्सा 1963 में उसने चीन को सीमा निपटारे (जिसे भारत स्वीकार नहीं करता) के तहत दे दिया है। लद्दाख में करीब 14,500 वर्ग मील क्षेत्र आज चीन के कब्जे में है। यह पूर्व रियासत आज पांच क्षेत्रों- कश्मीर, जम्मू, लद्दाख, तथाकथित आजाद कश्मीर और उत्तरी इलाकों से मिलकर बनी है। प्रशासनिक तौर पर कश्मीर को छह जिलों में बांटा गया है, जिनका क्षेत्रफल 6,157 वर्गमील है और आबादी 40 लाख से कुछ ऊपर। जम्मू क्षेत्र भी छह जिलों और 10,151 वर्ग मील का है, आबादी है 30.6 लाख। लद्दाख के दो जिले, लेह और कारगिल हैं, क्षेत्रफल 37,337 वर्ग मील है और आबादी 1,71,000।
जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद ने 3 लाख कश्मीरी हिन्दुओं को पलायन के लिए मजबूर कर दिया। कश्मीरी अलगाववादी मुस्लिमों द्वारा वहां किए गए नस्लीय परिमार्जन के कारण हिन्दुओं को अपने घर-बार छोड़कर दर-दर भटकना पड़ रहा है। आज ये 3 लाख कश्मीरी हिन्दू अपने ही देश में शरणार्थी का जीवन जी रहे हैं। दिल्ली, जम्मू आदि शहरों में विस्थापित शिविरों में जीवन बसर कर रहे हैं।
इतना ही नहीं, हजारों हिन्दू कत्ल कर दिए गए हैं और हजारों अन्य हिन्दू पुलिस व सेनाकर्मी आतंकवाद में मारे गए हैं। आज घाटी में हिन्दू न के बराबर हैं, सबको बाहर खदेड़ा जा चुका है।
मानवाधिकार संगठनों का रवैया:
एमनेस्टी इंटरनेशनल ने 2003 की अपनी रपट में बंगलादेश के हिन्दुओं के बारे में बस इतना कहा- “सन् 2001 में बंगलादेश सरकार ने हिन्दुओं के विरुद्ध हमलों, बलात्कार, आगजनी की जांच का जो वायदा किया था, उसकी कोई सूचना सार्वजनिक नहीं की गई है। हालांकि प्रशासन ने अक्तूबर में तीज-त्योहार के मौके पर हिन्दुओं की सुरक्षा के इंतजाम किए थे। “हिन्दू समाज पर हमले, संबंधी 2001 की इस संस्था की रपट में हिन्दू-पीड़ा पर विस्तार से प्रकाश डाला गया था, लेकिन महज तीन साल बाद की रपट में बिगड़ते हालातों के बावजूद हिन्दुओं की स्थिति पर सरसरी टिप्पणी के सिवाय कुछ नहीं था।
अंतरराष्ट्रीय पांथिक स्वतंत्रता पर 2004 में आई अमरीकी विदेश विभाग की रपट में बंगलादेश की परिस्थितियों का तीखा विश्लेषण है। इसके अनुसार वहां हालांकि आमतौर पर नागरिकों को “अपने धर्म-पंथ पर चलने की छूट है, पर पुलिस साधारणत: कानून-व्यवस्था बनाए रखने में ज्यादातर नाकाम रहती है और पांथिक अल्पसंख्यकों, जो अपराधों के शिकार हुए हैं, की मदद में ढीली रही है। “हिन्दुओं पर हमलों के लिए यह रपट “दो प्रमुख राजनीतिक दलों के बीच कटुता” को दोषी ठहराती है। रपट में एक जगह कहा गया है कि सरकार ने “मत-पंथों के बीच समझ बढ़ाने के कुछ प्रयास किए हैं” और कि “सरकार ने दुर्गा पूजा, अक्तूबर 2003 का एक प्रमुख हिन्दू अवकाश दिन, को शांतिपूर्ण तरीके से मनाने में सहयोग दिया है।”
पाकिस्तान के संदर्भ में 2003 की एमनेस्टी इंटरनेशनल की रपट में हिन्दुओं के विरुद्ध हमलों का जिक्र तक नहीं था। उसमें केवल इतना उल्लेख था कि “ईसाई और शिया मुस्लिमों सहित पांथिक अल्पसंख्यकों की महिलाओं, बच्चों के प्रति अत्याचार की घटनाओं की अनदेखी की जाती रही। “एक अन्य मानवाधिकारी संगठन यू.एन.सी.आई.आर.एफ. की रपट ने अहमदियाओं, शियाओं और ईसाइयों की पांथिक स्वतंत्रता के उल्लंघन की तो चर्चा की, हिन्दुओं का कहीं जिक्र तक नहीं किया।
दक्षिण एशिया में हिन्दुओं के विरुद्ध हो रहीं घटनाओं और दमन का आलम यह है कि कोई देश उनके पक्ष में आवाज उठाने से कतराता है। एमनेस्टी इंटरनेशनल, ह्रूमन राइट्स वाच या अन्य सरकारी आयोग, जैसे अंतरराष्ट्रीय पांथिक स्वतंत्रता पर अमरीकी आयोग आदि हिन्दुओं के मानवाधिकारों की कोई परवाह नहीं करते। वे हिन्दुओं के दमन की तरफ आंखें मूंदे रखते हैं।
समय की मांग:
हिन्दू-अमरीकन फाउंडेशन ने अपनी रपट के निष्कर्ष में कहा कि बंगलादेश में हिन्दुओं की स्थिति पर तुरंत गौर करने की आवश्यकता है। वहां उनकी संख्या घटती जा रही है। पाकिस्तान से भी हिन्दुओं को सताए जाने की खबरें पूरी तरह नहीं आ पा रही हैं। अल्पसंख्यक का दर्जा उन्हें निशाने पर बनाए हुए है। हिन्दुओं की संख्या अब हाशिए पर पहुंचा दी गई है। इसी तरह भारत (जम्मू-कश्मीर) में कश्मीर घाटी को हिन्दू-विहीन कर दिया गया है। जम्मू-कश्मीर का “विवादित क्षेत्र” का दर्जा कश्मीरी हिन्दुओं की स्थिति को प्रभावित करता रहेगा।
 एक देशभक्त को प्रधानमन्त्री बनाने का क्या फायदा होता है ...
 ये बात आपको इस खबर को पढ़कर पता चल जायेगी.*पूरी दुनिया में ईसाई धर्मांतरण कराने वाली सबसे बड़ी अमेरिकी एजेंसी “कंपैशन” ने भारत में अपना ऑफिस और सारे ऑपरेशन बंद करने का एलान कर दिया है.*
*“कंपैशन इंडिया” नाम के एनजीओ के जरिये से ये एजेंसी भारत में बड़े पैमाने पर गरीबों और आदिवासियों को ईसाई बनाने में लगी थी. करीब 10 महीने पहले मोदी सरकार ने इसके बिना इजाज़त विदेशी फंडिंग लेने पर रोक लगा दी थी यानी हर बार फंडिंग लेने से पहले सरकार को उसका पूरा ब्यौरा देना होगा.*
प्रधानमन्त्री बनते ही नरेंद्र मोदी ने देश में काम कर रहे तमाम एनजीओ का ऑडिट कराया जिसमे ये बात खुलकर सामने आई थी कि अमेरिकी एनजीओ “कंपैशन” भारत में सबसे ज्यादा फंडिंग भेज रहा है और ये सारा पैसा भारत में हिंदुओं के ईसाई धर्मांतरण में लग रहा है. पिछले 30 साल से “कंपैशन इंडिया”  प्रतिवर्ष भारत में 292 करोड़ रुपये विदेशों से लाती थी और इस फंड को 344 छोटे-बड़े एनजीओ में बांटा जाता था.*..ये सभी एनजीओ देशविरोधी गतिविधियों में और धर्मांतरण में लिप्त पाए गए हैं.
*ओबामा सरकार ने डाला था मोदी पर दबाव!*
“कंपैशन इंडिया” ने अपने बयान में कहा है कि वो भारत में अपना कामकाज बंद कर रहा है क्योंकि फंडिंग के नए नियमों के चलते उसे पैसा मिलना नामुमकिन हो चुका है.  जिसके बाद ओबामा सरकार के कई मंत्रियों और अधिकारियों ने भारत आकर मोदी सरकार पर इस बात के लिए दबाव डालने की कोशिश भी की थी कि “कंपैशन इंडिया” के लिए दिक्कतें पैदा न की जाएं...“कंपैशन इंटरनेशनल” के वाइस प्रेसिडेंट स्टीफेन ओकले भी भारत आये थे और भारत के तमाम नेताओं और अफसरों से मुलाकात की थी. इस बारे में उन्होंने विदेश सचिव एस जयशंकर से भी मुलाकात की थी. लेकिन इस मुलाकात में सरकार की ओर से उन्हें एनजीओ द्वारा भारत में कराए जा रहे धर्मांतरण के सबूत दिखा दिए गए थे.
*लाखों बच्चों को ईसाई धर्म के जाल में फंसाया*
सब काम बिलकुल खुल्लम-खुल्ला चल रहा था, संस्था की वेबसाइट पर बाकायदा साफ शब्दों में लिखा हुआ है कि उसका लक्ष्य “गरीबी में पल रहे बच्चों को जिम्मेदार और संपन्न ईसाई नौजवान बनाना” है. मोदी सरकार की जांच में चेन्नई के “करुणा बाल विकास ट्रस्ट” और “कंपैशन ईस्ट इंडिया” नाम के दो एनजीओ सबसे पहले फंसे थे. इन दोनों एनजीओ को “कंपैशन इंटरनेशनल” से करोड़ों रुपये की फंडिंग की जा रही थी और उस पैसे से गरीबों की सहायता के नाम पर ईसाई बनाने का काम धड़ल्ले से चल रहा था. जांच के आगे बढ़ने पर बाकी अन्य एनजीओ की गतिविधियों का कच्चा-चिट्ठा भी खुलकर सामने आ गया.
*मीडिया को भी पैसे दे कर खरीद रखा था कंपैशनेट इंडिया ने*
सूत्रों के मुताबिक सरकार को जांच में ये बात भी पता चली कि “कंपैशन इंटरनेशनल” की ओर से भारत के कुछ मीडिया संस्थानों के मुह में भी पैसे ठूसे जा रहे थे. इन बिकाऊ अखबारों और चैनलों ने एनजीओ के खिलाफ मोदी सरकार की पाबंदी के खिलाफ बाकायदा खबरें भी छापी थीं. ये वही बिकाऊ मीडिया संस्थान हैं जिन्होंने मोदी सरकार बनने के बाद सरकार को बदनाम करने के लिए चर्च पर हमले की झूठी खबरें भी फैलाई थीं.
*लावारिस और गरीब बच्चों को बनाते थे शिकार*
“कंपैशन इंडिया” नाम का ये एनजीओ इतना नीच है कि उसके फंड किए हुए अधिकतर एनजीओ सड़कों पर भीख मांगने या रेडलाइट पर सामान बेचने वाले लावारिस और गरीब बच्चों को अपने यहां लेकर आते थे और इनकी गरीबी और मजबूरी का फायदा उठाकर अपने एजेंडे को पूरा करते थे. ऐसे बच्चों को एक नया नाम दिया जाता था और उन्हें बताया जाता था कि आज से उनका भगवान ईसा मसीह है. संस्था के सेंटरों पर इन गरीब बच्चों को रात में सोने की जगह और खाने के लिए एक वक्त का खाना तो मिलता था लेकिन उन्हें शिक्षित करने की जगह पहले की तरह भीख मांगने या रेडलाइट पर सामान बेचने का काम करते रहने दिया जाता था. एनजीओ के इक्का-दुक्का सेंटरों पर ही बच्चों की पढ़ाई-लिखाई का इंतजाम होता था.
====================
"""ब्रिटन की रानी एलिज़ाबेथ जब किसी से हाथ मिलाती है तो हाथ के मोज़े पहनकर मिलाती है ! जीवन भर रानी एलिज़ाबेथ ने यही परमपरा का अनुसरण किया लेकिन उन्होंने जीवन में सिर्फ एक बार यह परमपरा तोड़ी जब श्री मोदीजी ब्रिटन रानी एलिज़ाबेथ को मिलने गए तब रानी ने खुले हाथ "हाथ" मिलाये श्री मोदीजी से ! और दूसरी परमपरा टूटी अमेरिका में ! श्री मोदीजी वैसे प्रथम नेता बने जिन्होंने वाईटहाउस में खाना खाया हो ! अब तो कांग्रेसियों को समज लेना चाहिए श्री मोदीजी युगपुरुष है !""
====================

भारत का चीन को जवाब: लेह में बनेगी दुनिया की सबसे ऊंची रेल लाइन

जम्मू-कश्मीर के लेह में रेलवे इसी हफ्ते 498 किलोमीटर लंबी बिलासपुर-मनाली-लेह लाइन के अंतिम लोकेशन सर्वे की शुरुआत करेगा। करीब 3,300 मीटर की ऊंचाई पर बनने जा रही यह लाइन सामरिक तौर पर अहम रेल परियोजना होगी और इसे दुनिया की सबसे ऊंची रेल पटरी का दर्जा हासिल होगा। 
अभी दुनिया की सबसे ऊंची रेल पटरी चीन की क्विंघाई-तिब्बत रेलवे है। यह रेल नेटवर्क हर मौसम में चालू रहेगा।  रक्षा मंत्रालय ने चीन सीमा के पास रेल संपर्क के लिए जिन चार अहम लाइनों की पहचान की है, यह उनमें से एक है।    
रेलमंत्री सुरेश प्रभु अंतिम लोकेशन सर्वे के काम का उद्घाटन 27 जून को करेंगे। इस सर्वे की अनुमानित लागत 157.77 करोड़ रुपये होगी। सर्वे का वित्तपोषण रक्षा मंत्रालय करेगा। प्रस्तावित नई रेल लाइन बिलासपुर और लेह के बीच के सभी अहम स्थानों- सुंदर नगर, मंडी, मनाली, टंडी, केलोंग, कोकसर, दर्छा उप्शी और कारू- को जोड़ेगी। अंतिम लोकेशन सर्वे की जिम्मेदारी रेल मंत्रालय के तहत आने वाले सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम राइट्स को दी गई है। 
रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सर्वे तीन चरणों में किया जाएगा और 2019 तक इसे पूरा किया जाना है। अभी सड़क मार्ग साल में सिर्फ पांच महीने खुला रहता है।