Thursday, 4 July 2019

जिहाद_का_इलाज

सन 711ई. की बात है। अरब के पहले मुस्लिम आक्रमणकारी मुहम्मद बिन कासिम के आतंकवादियों ने मुल्तान विजय के बाद एक विशेष सम्प्रदाय हिन्दू के ऊपर गांवो शहरों में भीषण रक्तपात मचाया था। हजारों स्त्रियों की छातियाँ नोच डाली गयीं, इस कारण अपनी लाज बचाने के लिए हजारों सनातनी किशोरियां अपनी शील की रक्षा के लिए कुंए तालाब में डूब मरीं।लगभग सभी युवाओं को या तो मार डाला गया या गुलाम बना लिया गया। भारतीय सैनिकों ने ऎसी बर्बरता पहली बार देखी थी।

एक बालक तक्षक के पिता कासिम की सेना के साथ हुए युद्ध में वीरगति को प्राप्त हो चुके थे। लुटेरी अरब सेना जब तक्षक के गांव में पहुची तो हाहाकार मच गया। स्त्रियों को घरों से खींच खींच कर उनकी देह लूटी जाने लगी।भय से आक्रांत तक्षक के घर में भी सब चिल्ला उठे। तक्षक और उसकी दो बहनें भय से कांप उठी थीं।
तक्षक की माँ पूरी परिस्थिति समझ चुकी थी, उसने कुछ देर तक अपने बच्चों को देखा और जैसे एक निर्णय पर पहुच गयी। माँ ने अपने तीनों बच्चों को खींच कर छाती में चिपका लिया और रो पड़ी। फिर देखते देखते उस क्षत्राणी ने म्यान से तलवार खीचा और अपनी दोनों बेटियों का सर काट डाला।उसके बाद अरबों द्वारा उनकी काटी जा रही गाय की तरफ और बेटे की ओर अंतिम दृष्टि डाली, और तलवार को अपनी छाती में उतार लिया।
आठ वर्ष का बालक तक्षक एकाएक समय को पढ़ना सीख गया था, उसने भूमि पर पड़ी मृत माँ के आँचल से अंतिम बार अपनी आँखे पोंछी, और घर के पिछले द्वार से निकल कर खेतों से होकर जंगल में भाग गया।
25 वर्ष बीत गए। अब वह बालक बत्तीस वर्ष का पुरुष हो कर कन्नौज के प्रतापी शासक नागभट्ट द्वितीय का मुख्य अंगरक्षक था। वर्षों से किसी ने उसके चेहरे पर भावना का कोई चिन्ह नही देखा था। वह न कभी खुश होता था न कभी दुखी। उसकी आँखे सदैव प्रतिशोध की वजह से अंगारे की तरह लाल रहती थीं। उसके पराक्रम के किस्से पूरी सेना में सुने सुनाये जाते थे। अपनी तलवार के एक वार से हाथी को मार डालने वाला तक्षक सैनिकों के लिए आदर्श था। कन्नौज नरेश नागभट्ट अपने अतुल्य पराक्रम से अरबों के सफल प्रतिरोध के लिए ख्यात थे। सिंध पर शासन कर रहे अरब कई बार कन्नौज पर आक्रमण कर चुके थे,पर हर बार योद्धा राजपूत उन्हें खदेड़ देते। युद्ध के सनातन नियमों का पालन करते नागभट्ट कभी उनका पीछा नहीं करते, जिसके कारण मुस्लिम शासक आदत से मजबूर बार बार मजबूत हो कर पुनः आक्रमण करते थे। ऐसा पंद्रह वर्षों से हो रहा था।

इस बार फिर से सभा बैठी थी, अरब के खलीफा से सहयोग ले कर सिंध की विशाल सेना कन्नौज पर आक्रमण के लिए प्रस्थान कर चुकी है और संभवत: दो से तीन दिन के अंदर यह सेना कन्नौज की सीमा पर होगी। इसी सम्बंध में रणनीति बनाने के लिए महाराज नागभट्ट ने यह सभा बैठाई थी। सारे सेनाध्यक्ष अपनी अपनी राय दे रहे थे...तभी अंगरक्षक तक्षक उठ खड़ा हुआ और बोला---
*महाराज, हमे इस बार दुश्मन को उसी की शैली में उत्तर देना होगा।*

महाराज ने ध्यान से देखा अपने इस अंगरक्षक की ओर, बोले- "अपनी बात खुल कर कहो तक्षक, हम कुछ समझ नही पा रहे।"

*"महाराज, अरब सैनिक महाबर्बर हैं, उनके साथ सनातन नियमों के अनुरूप युद्ध कर के हम अपनी प्रजा के साथ घात ही करेंगे। उनको उन्ही की शैली में हराना होगा।"*

महाराज के माथे पर लकीरें उभर आयीं, बोले-
"किन्तु हम धर्म और मर्यादा नही छोड़ सकते सैनिक। "

तक्षक ने कहा-
*"मर्यादा का निर्वाह उसके साथ किया जाता है जो मर्यादा का अर्थ समझते हों। ये बर्बर धर्मोन्मत्त राक्षस हैं महाराज। इनके लिए हत्या और बलात्कार ही धर्म है।"*

"पर यह हमारा धर्म नही हैं बीर"

"राजा का केवल एक ही धर्म होता है महाराज, और वह है प्रजा की रक्षा। देवल और मुल्तान का युद्ध याद करें महाराज, जब कासिम की सेना ने दाहिर को पराजित करने के पश्चात प्रजा पर कितना अत्याचार किया था। ईश्वर न करे, यदि हम पराजित हुए तो बर्बर अत्याचारी अरब हमारी स्त्रियों, बच्चों और निरीह प्रजा के साथ कैसा व्यवहार करेंगे, यह आप भली भाँति जानते हैं।"

महाराज ने एक बार पूरी सभा की ओर निहारा, सबका मौन तक्षक के तर्कों से सहमत दिख रहा था। महाराज अपने मुख्य सेनापतियों मंत्रियों और तक्षक के साथ गुप्त सभाकक्ष की ओर बढ़ गए।

अगले दिवस की संध्या तक कन्नौज की पश्चिम सीमा पर दोनों सेनाओं का पड़ाव हो चूका था, और आशा थी कि अगला प्रभात एक भीषण युद्ध का साक्षी होगा।

आधी रात्रि बीत चुकी थी। अरब सेना अपने शिविर में निश्चिन्त सो रही थी। अचानक तक्षक के संचालन में कन्नौज की एक चौथाई सेना अरब शिविर पर टूट पड़ी। अरबों को किसी हिन्दू शासक से रात्रि युद्ध की आशा न थी। वे उठते,सावधान होते और हथियार सँभालते इसके पुर्व ही आधे अरब गाजर मूली की तरह काट डाले गए।

इस भयावह निशा में तक्षक का शौर्य अपनी पराकाष्ठा पर था।वह घोडा दौड़ाते जिधर निकल पड़ता उधर की भूमि शवों से पट जाती थी। आज माँ और बहनों की आत्मा को ठंडक देने का समय था....

उषा की प्रथम किरण से पुर्व अरबों की दो तिहाई सेना मारी जा चुकी थी। सुबह होते ही बची सेना पीछे भागी, किन्तु आश्चर्य! महाराज नागभट्ट अपनी शेष सेना के साथ उधर तैयार खड़े थे। दोपहर होते होते समूची अरब सेना काट डाली गयी। अपनी बर्बरता के बल पर विश्वविजय का स्वप्न देखने वाले आतंकियों को पहली बार किसी ने ऐसा उत्तर दिया था।

विजय के बाद महाराज ने अपने सभी सेनानायकों की ओर देखा, उनमे तक्षक का कहीं पता नही था।सैनिकों ने युद्धभूमि में तक्षक की खोज प्रारंभ की तो देखा-लगभग हजार अरब सैनिकों के शव के बीच तक्षक की मृत देह दमक रही थी। उसे शीघ्र उठा कर महाराज के पास लाया गया। कुछ क्षण तक इस अद्भुत योद्धा की ओर चुपचाप देखने के पश्चात महाराज नागभट्ट आगे बढ़े और तक्षक के चरणों में अपनी तलवार रख कर उसकी मृत देह को प्रणाम किया। युद्ध के पश्चात युद्धभूमि में पसरी नीरवता में भारत का वह महान सम्राट गरज उठा-

"आप आर्यावर्त की वीरता के शिखर थे तक्षक.... भारत ने अबतक मातृभूमि की रक्षा में प्राण न्योछावर करना सीखा था, आप ने मातृभूमि के लिए प्राण लेना सिखा दिया। भारत युगों युगों तक आपका आभारी रहेगा।"

साभार... अज्ञात

इतिहास साक्षी है, इस युद्ध के बाद अगले तीन शताब्दियों तक अरबों कीें भारत की तरफ आँख उठा कर देखने की हिम्मत नही हुई।
तक्षक ने सिखाया कि मातृभूमि की रक्षा के लिए प्राण दिए ही नही, लिए भी जाते है, साथ ही ये भी सिखाया कि दुष्ट सिर्फ दुष्टता की ही भाषा जानता है, इसलिए उसके दुष्टतापूर्ण कुकृत्यों का प्रत्युत्तर उसे उसकी ही भाषा में देना चाहिए अन्यथा वो आपको कमजोर ही समझता रहेगा।

Friday, 14 June 2019



*दैनिक योग का अभ्यास - क्रम*

👉 *प्रारंभ* : तीन बार ओ३म् लंबा उच्चारण करें।

👉 *गायत्री - महामंत्र* :
ओ३म् भूर्भुव: स्व:। तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि। धियो यो नः प्रचोदयात्।।

👉 *महामृत्युंजय - मंत्र* : ओ३म् त्र्यंबकम यजामहे सुगंधिम पुष्टिवर्धनम। उर्वारुकमिव बंधनामृत्योर्मुक्षिय माऽमृतात्।।

👉 *संकल्प - मंत्र* : ओ३म् सह नवावतु। सह नोै भुनक्तु। सह वीर्य करवावहै।तेजस्विनावधीतमस्तु।मा विद्विषावहै।।

👉 *प्रार्थना - मन्त्र* ओ३म् ॐ असतो मा सद् गमय। तमसो मा ज्योतिर्गमय। मृत्योर्माऽमृतं गमय। ओ३म् शान्ति: शान्ति: शान्ति:।।

👉 *सहज - व्यायाम : यौगिक जौगिंग*
(समय- लगभग 5 मिनट)
तीन प्रकार की दौड़,
तीन तरह की बैठक,
चार साइड में झुकना,
दो तरह से उछलना, कुल 12 अभ्यास।

👉 सूर्य - नमस्कार 3 से 5 अभ्यास (समय- 1से 2 मिनट) 12 स्टेप
(1 प्रणाम आसन, 2 ऊर्ध्व हस्तासन, 3 पादहस्तासन, 4 दाएं पैर पर अश्वसंचालन, 5 पर्वतासन, 6 साष्टांग प्रणाम आसन, 7 भुजंगासन, 8 पर्वतासन, 9 बाएं पैर पर अश्वसंचालन, 10 पादहस्तासन, 11 ऊर्ध्वहस्तासनसन, 12 प्रणाम आसन।

👉 *भारतीय - व्यायाम* :
📌 मिश्रदण्ड अथवा युवाओं के लिए बारह प्रकार की दण्ड व आठ प्रकार की बैठकों का पूर्ण अभ्यास (समय- लगभग 5 मिनट)
1 साधारण दंड, 2 राममूर्ति दंड, 3 वक्ष विकासक दंड, 4 हनुमान दंड, 5 वृश्चिक दंड भाग 1, 6 वृश्चिक दंड भाग 2, 7 पार्श्व दंड, आठ चक्र दंड, 9 पलट दंड, 10 शेर दंड, 11 सर्पदंड, 12 मिश्र दंड।

...📌 बैठक 1 अर्ध बैठक, 2 पूर्ण बैठक, तीन राममूर्ति बैठक, चार पहलवानी बैठक भाग 1, 5 पहलवानी बैठक भाग 2, 6 हनुमान बैठक भाग 1, 7 हनुमान बैठक भाग 2, 8 हनुमान बैठक भाग 3।

👉 *मुख्य आसन*:
*बैठ कर करने वाले आसन*:
✔️ मंडूकासन (भाग 1 व 2)
✔️ शशकासन,
✔️ गोमुखासन,
✔️ वक्रासन।

👉 *पेट के बल लेट कर करने वाले आसन*:
✔️ मकरासन भुजंगासन (भाग 1 2 व 3)
✔️ शलभासन ( भाग 1 व 2)

👉 *पीठ के बल लेटकर करने वाले आसन*:
✔️ मर्कटासन (1, 2, 3),
✔️ पवनमुक्तासन (भाग 1 व 2)
✔️ अर्ध्द हलासन, पादवृतासन,
✔️ द्वि- चक्रिकासन (भाग 1 व 2) व

👉 *शवासन (योगनिंद्रा)*। समय 10 से 15 मिनट, प्रत्येक आसन की आवर्ती- 3 से 5 अभ्यास)

👉 *सूक्ष्म - व्यायाम* : हाथों, पैरों, कोहनी, कलाई, कंधों के सूक्ष्म व्यायाम व बटरफ्लाई इत्यादि लगभग 12 प्रकार के सूक्ष्म व्यायाम, प्राणायाम के पहले अथवा बीच में भी किए जा सकते हैं। प्रत्येक अभ्यास की आवृत्ति 5 - 10 बार (समय लगभग 5 मिनट)।

👉 *मुख्य प्राणायाम एवं सहयोगी क्रिया*

📌 *1.भस्त्रिका - प्राणायाम*लगभग 5 सेकंड में धीरे-धीरे लंबे गहरा श्वास लेना व छोड़ना कुल समय 3 से 5 मिनट।

📌 *2. कपालभाति - प्राणायाम* : 1 सेकंड में एक बार झटके के साथ श्वास छोड़ना कुल समय 15 मिनिट ।

📌 *3. बाह्य - प्राणायाम* : त्रिबन्ध के साथ श्वास को यथा शक्ति बाहर निकाल कर रोक कर रखना 3 से 5 अभ्यास।

📌 *(अग्निसार - क्रिया)* : मूल- बन्ध के साथ पेट को अंदर की ओर खींचना व ढीला छोडना़ 3 से 5 अभ्यास।

📌 *4. उज्जायी - प्राणायाम* : गले का आकुञचन करते हुए श्वास लेना यथाशक्ति रोकना व बाईं नासिका से छोड़ना 3 से 5 अभ्यास।

📌 *5. अनुलोम - विलोम प्रणायाम*: दाईं नासिका बंद करके बाईं से श्वास लेना व बाईं को बंद करके दाईं से श्वास छोड़ना वापिस दाईं से श्वास भरना वह बाईं से छोड़ने का क्रम करना, एक क्रम का समय 10 से 12 सेकण्ड - अभ्यास समय 15 मिनट।

📌 *6. भ्रामरी प्रणायाम* : आंखों व कानों बंद करके नासिका से भ्रमर की तरह गुंजन करना - 5 से 7 बार।

📌 *7. उद् गीथ - प्राणायाम* दीर्घ स्वर में ओ३म् का उच्चारण 5 से 7 अभ्यास।

📌 *8. प्रणव - प्राणायाम (ध्यान)* : आंखें बंद करके श्वसों पर या चक्रों में ॐ का ध्यान मुद्रा में ध्यान करना - समय कितना उपलब्ध हो।

👉 🇮🇳 *देशभक्ति - गीत* 🙏: समय लगभग 2-3 मिनट।

👉 स्वाध्याय - चिन्तन : लगभग 5 मिनट।

👉 *एक्यूप्रेशर* : समय की उपलब्धता अनुसार।
*समापन* :

👉 सिंहासन, हास्यासन, 3-3 अभ्यास (समय - 2 मिनट)

👉 🙏*शान्ति - पाठ*🙏 :
ओ३म् द्यौ: शान्ति रान्तरिक्ष शान्तिः पृथिवी शान्तिरापः शान्तिरारोषधयःशान्तिः। वनस्पतयः शान्ति र्विश्वे देवाः शान्तिब्रर्ह्म शान्तिः सर्वगृवम शान्तिः शान्तिरेव शान्तिः सा मा शान्तिरेधि ।। ओ३म् शान्तिःशान्तिःशान्तिः।।

✔️ *विशेष*:
योगाभ्यास के क्रम में व्यायाम, सूक्ष्म - व्यायाम व आसनों को पहले या बाद में भी किया जा सकता है।

शीतकाल में व्यायाम व आसन पहले तथा प्राणायाम बाद में एवं ग्रीष्म काल में प्रणायाम पहले करवाकर व्यायाम व आसन बाद में कर सकते हैं

Saturday, 8 June 2019

genaretor

https://www.facebook.com/HYDERABADiTalks/videos/615319825618357/
.......................................................

https://www.facebook.com/Researchtvhindi/videos/621113605073536/
suar ki charbi 

Friday, 7 June 2019



आप 10 तरीकों से कर सकते हैं पीएम मोदी से संपर्क
पीएम नरेंद्र मोदी फेसबुक से लेकर ट्वीटर तक पर एक्टिव रहते हैं। आज हम बता रहे हैं ऐसे 10 तरीके जिनके जरिए आप पीएम मोदी तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं।


- यदि आपके मन में कोई क्वेरी या सजेशन है तो आप www.pmindia.gov.in/en/interact-with-honble-pm/ पर लॉग इन कर सकते हैं और खुद को रजिस्टर कर सकते हैं। यह एक ऑफिशियल पोर्टल है, जिसे पीएम नरेंद्र मोदी से इंटरेक्ट करने के लिए डिजाइन किया गया है।

- आप पीएम के ऑफिशियल एड्रेस पर उन्हें सीधे लेटर लिख सकते हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीएम मोदी को रोजाना 2 हजार से ज्यादा लेटर देशभर से मिलते हैं।

क्या है ऑफिशियल एड्रेस : वेब इंफॉर्मेशन मैनेजर, साउथ ब्लॉक, रायसीना हिल
नईदिल्ली : 110011
फोन नंबर : 23012312
फैक्स : 23019545,23016857

आप 'ऑनरेबल प्राइम मिनिस्टर ऑफ इंडिया, 7 रेसकोर्स रोड, नईदिल्ली' लिखकर भी लेटर पहुंचा सकते हैं।

- आइडिया शेयरिंग के लिए आप www.mygov.in पर जा सकते हैं। यहां सजेशन, आइडिया दे सकते हैं।
- आप RTI के जरिए भी पीएमओ से कोई प्रश्न पूछ सकते हैं।
- आप @PMOIndia या @Narendramodi पर ट्वीट करके भी सीधे अपनी बात पीएम तक पहुंचा सकते हैं। मोदी के ट्वीटर पर 16 मिलियन से ज्यादा फॉलोअर्स हैं।

- आप यू-ट्यूब के जरिए भी पीएम तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं। Narendra modi's Youtube Channel पर जाकर अपना मैसेज सेंड कर सकते हैं।

- Narendra modi Facebook Page या fb.com/pmoindia पर जाकर आप फेसबुक के जरिए भी पीएम तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं।

- narendramodi1234@gmail.com यह पीएम की ईमेल आईडी है। यह उनके एंड्रॉइड ऐप पेज से मिली है।
- इसके अलावा आप इंस्टाग्राम, लिंक्डइन पर भी पीएम से कॉन्टेक्ट कर सकते हैं। इंस्टाग्राम के लिए

https://www.instagram.com/narendramodi/ और लिंक्डइन के लिए https://in.linkedin.com/in/narendramodi पर जाएं।

- आप NaMo एंड्रॉइड ऐप डाउनलोड करके भी पीएम मोदी तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं और उनसे जुड़े रह सकते हैं।

Wednesday, 27 March 2019



नेहरू खानदान की हिमाकत की दाद देनी पड़ेगी..//
पूरा परिवार भ्रष्टाचार में जमानत पर है...ओर भाषण ईमानदारी पर दे रहे हैं...
===================================


अंतरिक्ष में भारत की सर्जिकल स्ट्राइक .//
3 मिनट में मार गिराया जासूसी सैटेलाइट..मोदी है तो मुमकिन है
भारत अन्तरिक्ष में जो सुपरपावर बना है भारत ने एक अभूतपूर्व सिद्धि हासिल की है। भारत में आज अपना नाम ‘स्पेस पावर’ के रूप में दर्ज करा दिया है। अब तक रूस, अमेरिका और चीन को ये दर्जा प्राप्त था, आज हिंदुस्तान दुनिया की चौथी अंतरिक्ष महाशक्ति बना । "भारत" 3 मिनट में पूरे पाक में अंधेरा, टीवी, इंटनरेट, विमान और परमाणु बम सहित सारी सेवाओं को ठप्प कर सकता है।
ये मोदी का भारत है
इस तरह के सेटेलाईट का उपयोग पड़ोसी देश सेना के मूवमेंट को कैप्चर करके आतंकियो को जीपीएस के माध्यम से लोकेशन की सटीक जानकारी पहुंचाया जाती थी
उसका प्रभाव
किसी भी युद्ध में सेटेलाईट युद्ध के संचालन में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है आज के दौर में सेटेलाईट के बिना कोई भी देश हर तरह के हथियार रखने के बावजूद कागजी शेर से जादा कुछ नही ओता .सेना के लगभग सभी हथियार और उपकरण सेटेलाईट संचार से जुड़े होते है.ऐसे हालात में दुश्मन के कम्युनिकेशन सिस्टम और जासूसी उपकरणों को नष्ट करने की छमता हासिल कर भारत ने बहुत बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली है
== आज की कामयाबी का श्रेय कांग्रेस ने DRDO को दिया है ....और डीआरडीओ के पूर्व मुखिया डॉ वी के सारस्वत ने इसका श्रेय नरेंद्र मोदी जी को देते हुए कहा है कि DRDO भारत का संस्थान है जिसका मुखिया भारत का प्रधानमंत्री ही होता है किसी का बाप दादा नही

== डीआरडीओ के तत्कालीन प्रमुख वी के सारस्वत का बयान आया है कि भारत पहले ही एंटी सैटेलाइट मिसाइल सिस्टम बना सकता था परंतु अप्रेल 2012 में यूपीए सरकार के तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इसकी अनुमति नहीं दी थीं।
== 2007 में भी कर सकते थे ऐंटी-सैटलाइट मिसाइल लॉन्च, लेकिन राजनीतिक इच्छाशक्ति नहीं थी।
पूर्व इसरो चीफ माधवन नायर,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,


,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,








Monday, 25 March 2019

== मोदी जी अगर 2024 तक प्रधानमंत्री बने रहे
तो ये तय है कि..
भारतीय सेना विश्व की सबसे शक्तिशाली
सेना होगी ..//:- जनरल बिपित रावत
==  भारत की जल्द 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनने के दरवाजे पर दस्तक।जिसकी हमने 200 साल गुलामी की उससे ही छीनेंगे पांचवां स्थान..//
xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

== जो कल तक JNU में भारत तेरे टुकड़े होंगे नारे लगा रहे थे वो आज कोंग्रेस पार्टी से चुनाव लड़ रहे हैं?
== क्या राहुल गांधी हार्दिक पटेल, चंद्रशेखर रावण ,कन्हैया कुमार, जिग्नेश मेवानी जैसे के हाथों में देश सुरक्षित रह सकता है जवाब दीजिये ..?
== आतंकवाद का पालन पोषण:- पाकिस्तान करता है।देखभाल :- चीन करता है।
वकालत :- कांग्रेस करती है
== प्रियंका वाड्रा तुम गंगा की बेटी नहीबल्कि,
सैकडो संतो की कातिल इंदिरा की पोती ओर ..
10 हजार सिखो के कातिल राजीव गांधी की बेटी हो
==  8 राज्यों में हिंदुओं को मिल सकता है अल्पसंख्यक का दर्जा! अल्पसंख्यक आयोग जल्द करेगा फैसला!
ये है कोंग्रेस के 60 सालों
==  पाकिस्तान एक ऐसा राक्षस है जिसकी जान कांग्रेस नामक तोते में बंद है, कांग्रेस की गर्दन मरोड़ दी जाये तो राक्षस खुद ही मर जायेगा - राजन सिंह‎‎
== मुझे अगर प्रधानमंत्री बनाया गया तों मैं देश के हर नागरिक को हर रोज़ 1 लाख़ रूपये दे सकता हूँ।बोलने में क्या जाता हैं!
पाकिस्तान एक ऐसा राक्षस है जिसकी जान कांग्रेस नामक तोते में बंद है, कांग्रेस की गर्दन मरोड़ दी जाये तो राक्षस खुद ही मर जायेगा
==============================


good news -70 साल का इंतजार खत्म,
पहली बार *मिजोरम* पहुँची ट्रेन!...मोदी है तो मुमकिन है...

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, 

मुफ्तखोरी भारत को  धीरे धीरे बर्बाद कर रही है ..//

जो कांग्रेस सब्सिडी के सिलेंडर साल में 7-9 करने में उलझी रहती थी, 72 हजार देगी ?भारत में कुछ लोग ऐसे हैं ..500, 1000 रुपए मिल जाए तो ये लोग लादेन को भी वोट दे देंगे 
== राहुल ने MP के युवाओं को ₹4000,राजस्थान के युवाओं को ₹10000 अभी तक नही दिया है,अब पुरे देश को ₹72000 पर ठगने की तैयारी
== 72000 क्या एक चवन्नी नहीं मिलेगी, उल्टा लालच में एक ईमानदार और त्यागी प्रधानमंत्री मोदी से हाथ धो बैठोगे
== हमारे टैक्स के पैसों को जेहादियों घुसपैठियों और ईसाई मिशनरियों को गरीब बता कर बांटेगी कांग्रेस
हिन्दूओ को कुछ नहीं मिलने वाला है
== फ्री बिजली-पानी, फ्री बेरोजगारी भत्ता चुनाव में वही मुद्दा बनाते हैं जिनके पास देश कि समस्या का समाधान नहीं होता
वोट बैंक के लिए मुफ्तखोरी भारत को भारत को किस कद्र धीरे धीरे बर्बाद कर रही है उस पर मद्रास हाईकोर्ट और कर्नाटक हाईकोर्ट ने बेहद चिंता भी जता चुके है और कहा मुफ्त का चावल तमिलनाडु के लोगो को निक्कमा बना दिया ..ये बन्द हो और सिर्फ बीपीएल लोगो को मिले
ये निक्कमापन  कर्नाटक में 2017 में देखा ...कर्नाटक यात्रा के दौरान मैं उडुपी से 200 किलोमीटर दूर अपने मित्र के विशाल रिजॉर्ट में रुका था । मित्र का करीब 20 एकड़ में सुपारी प्लांटेशन था .. मित्र के पिता जी ने बताया कि पहले मजदूर बहुत काम करते थे लेकिन अब कर्नाटक  की कांग्रेस रकार  की नीति मजदूर काम करने नहीं आते बल्कि सारा दिन घर में पड़े रहते हैं
कर्नाटक की कांग्रेस सरकार हर महीने राशन कार्ड होल्डर को 30 किलो चावल एक किलो दाल और नमक तथा तेल का एक पैकेट मुफ्त में देती है
अब इससे फायदा नही हुआ ..उल्टे कर्नाटक में खेतो और बागानों में काम करने के लिए अब मजदूर नही मिलते .. मछली व्यापारियों को मछुयारे नही मिलते क्योकि सब निठ्ठले हो गये .. सबको मुफ्त में राशन तेल नमक मिल रहा है तो कोई काम क्यों करे ..
नतीजा . अब कर्नाटक की खेती किसानी, बागवानी, फिशिंग आदि उद्योग बुरी तरह प्रभावित हो चुके है ..

ठीक यही तमिलनाडु में हो रहा है ...तमिलनाडु के उद्योग और खेती बुरी तरह प्रभावित हो रहे है ..लोगो को सरकार मुफ्त में चावल, तेल नमक मसाला आदि दे रही है इसलिये अब कोई काम नही करना चाहता ...

मद्रास हाईकोर्ट ने इस परंपरा पर चिंता जताते हुए कहा कि राजनीतिक दल वोट के लिए देश को बर्बाद कर रहे हैअब कल्पना करिए कि राहुल गांधी ने जो ₹12000 देने का वायदा किया है वह इस देश की जीडीपी को इस देश के उद्योग धंधे को किस तरह बर्बाद कर देगा और लोगों को किस कदर काम चोर बना देगा
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,box,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

गरीबी हटाओ प्रपंच का नया प्रपंच....//
चिदंबरम पप्पू जालसाजी वोट कमाओ कांग्रेसी योजना..//
ये योजना सिर्फ 20% ऐसे अति गरीब परिवारों के लिए हैं जिनकी मासिक आय 12000/- रूपए से कम हैं। उसमें लाभ देने का तरीका यह होगा कि अगर मान लो कि आपके परिवार की आय 10000/- रूपए मासिक हैं तो आपको 2000/- रूपए मिलेगा और अगर मेरे परिवार की मासिक आय 11500/- रूपए हैं तो मुझे 500/- रुपए महीना मिलेगा। और पप्पू डायलॉग ऐसे मार रहा जैसे कि बहुत बड़ी योजना लेकर आया हो मने 20% लोगों के नाम पर 100% लोगों को बरगलाने के नाम पर वोट हथियाने का मंदबुद्धि पप्पू छाप दिमाग।
Sanjeev Tripathi
,,,,,,,,,,,,,,,box,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

इतनी धनराशि की व्यवस्था वह कँहा से करेगा?
राहुल गांधी ने आज कहा है कि यदि सत्ता में आ गए तो 25 करोड़ लोगों को प्रतिवर्ष ₹72000/ के हिसाब से ₹18,000,000,000,000 करोड़ सीधे उनके खाते में डाल दूंगा.
यानी देश के बजट का 75% . क्या राहुल गांधी बताएंगे इतनी धनराशि की व्यवस्था वह कँहा से करेगा?
Uma Shanker Singh
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,box,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

राहुल गांधी जी के वादे के इस झुनझुने को सही भी मानें और 5 करोड़ परिवार को मिनिमम 6000₹/महीने की भी मदद देनी हो तो 30 हज़ार करोड़ रुपए चाहिए होंगे हर महीने। यानी साल का साढ़े तीन लाख करोड़ से ज़्यादा। पैसे उगाने का कोई पेड़ लगाने का इरादा है या कोई और स्कीम है?
मजे की बात ये की भारत की कुल जीडीपी 121 लाख करोड़ रुपये है ...फिर कृषि और रक्षा तथा इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए कहाँ से पैसे आएंगे ?
 सोच विचार कर फैसला लेना क्योंकि मध्यप्रदेश में कमलनाथ ने युवाओं को ₹4000 महीना देने का वायदा किया था और आज तक ₹1 नहीं दिया
Jitendra Pratap Singh

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

राहुल गाँधी क-के-बाद-एक  10 झूठ 
राहुल गाँधी की चुनावी रणनीति साफ है- मीडिया के समुदाय विशेष की मदद से फर्जी ख़बरें फैलाते रहना, और जनता को बेहोश रखने के लिए ‘₹12,000 महीना’ जैसी हवा-हवाई स्कीमों का चूरन हवा में उड़ाते रहना। पर उनकी इस नीति को कितनी सफलता मिलेगी, यह वक्त ही तय करेगा

1.
राहुल गाँधी दावा करते हैं कि आगामी लोकसभा चुनाव ‘विचारधारा’ की लड़ाई हैं, और इस लड़ाई में वह और कॉन्ग्रेस ही भारत के एकलौते तारक-उद्धारक हैं। वह भाजपा (जो कि 1980 में बनी ही थी) पर 1947 में विभाजन के समय भारत के विभाजन का समर्थन करने का आरोप लगाते हैं, और अपनी पार्टी को एकता, प्रेम, और भाईचारे का समर्थक बताते हैं।

पर सच्चाई इसके उलट है। कॉन्ग्रेस वही पार्टी है जिसने ‘हिन्दू आतंकवाद’ का शिगूफा छेड़ा और भारत की छवि बर्बाद की। राहुल गाँधी खुद अमेरिकी राजदूत से एक शाखा लगा कर व्यायाम-देशभक्ति सिखाने और बाढ़ में स्वयंसेवक भेजने वाले आरएसएस को आतंकी अल-कायदा से खतरनाक संगठन बता आए थे। साधुओं को जेल भेजने और मोदी को सत्ताच्युत करने की अपील पाकिस्तान में करने वाली भी यही पार्टी है।

हिन्दुओं को जाति से लेकर भाषा तक हर तरीके से बाँटना और मुसलमानों को एकजुट कर, तुष्टीकरण कर, वोटबैंक बनाना ही कॉन्ग्रेस की नीति है।

2.
राहुल गाँधी के अनुसार मोदी ने मनरेगा और अन्य जनकल्याण योजनाओं को राजनीतिक विद्वेष के चलते बर्बाद कर दिया। यह दावा भी यथार्थ के विपरीत है। राजग सरकार ने न केवल मनरेगा में न केवल आमूलचूल सुधार किए, ताकि लाभार्थियों तक इसके लाभ सीधे पहुँचें, बल्कि इसके लिए बजट आवंटन भी सर्वकालिक उच्चतम स्तर ₹60,000 करोड़ मोदी सरकार के इस वर्ष के अंतरिम बजट में हुआ है।

3.
राफेल का मुद्दा नाहक उठाने में राहुल गाँधी को सरकारी विमान-निर्माण कम्पनी HAL से अत्याधिक प्रेम हो गया है। रैली में उन्होंने दावा किया कि HAL के बनाए मिग-21 विमानों से ही बालाकोट पर हमला हुआ था। जबकि बालाकोट पर बमबारी मिराज-2000 लड़ाकू जेटों से की गई थी। इसे बनाने वाली वही दसाँ है जिससे कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राफेल बनाने को लेकर खफा हैं। वहीं HAL के काम-काज पर संसद की वह समिति सवाल खड़े कर चुकी है जिसके मुखिया कॉन्ग्रेस के लोकसभा दल के नेता श्री मल्लिकार्जुन खड़गे हैं।

4. ‘
राफेल का भूत राहुल गाँधी के फिर से चिपट गया। बीच में ऐसा लगा था कि जब ऑपइंडिया ने राफेल की डील असफल होने में उनका निजी आर्थिक हित दिखा दिया तो राफेल वाला भूत शायद उतर गया हो, पर इस रैली में वह फिर इसी भूत से पीड़ित नज़र आए।

राफेल की संप्रग सरकार के समय कीमत और शर्तों से लेकर दसाँ द्वारा अनिल अम्बानी के चयन की प्रक्रिया तक वह हर पहलू पर झूठ बोलते पकड़े गए हैं। यहाँ तक कि वह कभी यह दावा करते थे कि पूर्व रक्षा मंत्री पार्रिकर ने उनके कान में घोटाले की बात कबूली, तो कभी पत्रकार एन राम के फोटोशॉप किए गए रक्षा मंत्रालय के नोट से दोबारा उन्हीं पार्रिकर को उनके अंतिम दिनों में घेरने की कोशिश करते।

5.

राहुल गाँधी कभी यह साफ-साफ नहीं बता पाए कि आखिर मोदी ने अम्बानी को कितने का ‘गलत फायदा’ पहुँचाया। वह कभी ₹1 लाख करोड़ कहते हैं, कभी ₹1 लाख 30 हजार करोड़, कभी 1 लाख उड़ा कर केवल ₹30 हजार करोड़।

जबकि सच्चाई यह है कि ऑफसेट का पूरा कॉन्ट्रैक्ट ही ₹29,000 करोड़ का है जिसमें दसाँ के अलावा MBDA, Thales और Safran नामक तीन और कम्पनियों की भी देनदारी बनती है।

6.
कॉन्ग्रेस अध्यक्ष यह भी अक्सर कहते हैं कि मोदी ने अमीरों का कर्जा कर दिया। पर कितने का किया, यह संख्या भी चुनाव पास आने के साथ बढ़ती रहती है। 2017 में गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान यह आँकड़ा ₹20,000 करोड़ था, जो आज ₹3.5 लाख करोड़ हो गया।

एक बार फिर अगर हम सच्चाई के आईने को देखें तो अमीरों का कर्जा माफ करना तो दूर, मोदी सरकार ने ₹9,000 करोड़ न चुकाने पर विजय माल्या की ₹13,000 करोड़ की संपत्ति जब्त कर ली, और Insolvency and Bankruptcy Code के जरिए 2 साल में ₹3 लाख करोड़ की वसूली कर्ज लेकर न चुकाने वाले बड़े लेनदारों से की।

7.
जिन राज्यों में कॉन्ग्रेस हालिया समय में राज्य सरकार में आई है, वहाँ कर्ज माफी का आलम यह है कि किसान सर पीट रहे हैं। किसी ने कर्ज-माफी स्कीम में खुद के अपात्र होने पर आत्महत्या कर ली, तो ₹24,000 की कर्ज माफी की उम्मीद में किसी को ₹13 से ही संतोष करना पड़ा। किसान सामूहिक आत्महत्या की भी धमकी दे रहे हैं।

राजस्थान में ही, जहाँ राहुल गाँधी बोल रहे थे, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कर्ज माफी न कर पाने का ठीकरा भाजपा के सर फोड़ दिया। वहीं कर्नाटक में कर्ज-माफी के बाद भी किसानों को कर्ज चुकाने का नोटिस थमाया जाना जारी है। ₹44,000 करोड़ की कर्ज माफी का दावा करने वाली कर्नाटक की संप्रग सरकार केवल 800 लाभार्थी प्रस्तुत कर पाई।

8.
राहुल गाँधी वित्त मंत्री अरुण जेटली पर आरोप लगाते हैं कि शराब व विमान कारोबारी ने विदेश फरार होने के पूर्व जेटली से ‘मुलाकात’ की थी। जेटली यह साफ कर चुके हैं कि माल्या ने राज्यसभा सदस्यता का दुरुपयोग कर उनसे बात करने का प्रयास भर किया था, पर उन्होंने बात करने से साफ मना कर दिया था।

फिर राहुल गाँधी एक कॉन्ग्रेस नेता को ‘चश्मदीद’ बना के ले आए कि जेटली-माल्या में 20 मिनट बात हुई थी। पर अरुण जेटली के उस दिन के शिड्यूल में ऐसी बातचीत ही नामुमकिन निकली।

इसके अलावा यह भी सवाल लाजमी है कि मोदी या जेटली की अगर माल्या से कोई साठ-गाँठ होती तो क्या आज माल्या को प्रत्यर्पण और कर्ज की लगभग डेढ़गुणा संपत्ति का जब्त होना झेलना पड़ता?

9.
कॉन्ग्रेस अध्यक्ष ने यह भी दावा किया कि सुप्रीम कोर्ट से अपनी नियुक्ति जीत कर आए सीबीआई प्रमुख अलोक वर्मा को मोदी ने गलत तरीके से हटा दिया। यहाँ भी सच्चाई कुछ और है। आलोक वर्मा की अदालती जीत प्रक्रियागत मुद्दा थी– सुप्रीम कोर्ट ने उनके हटाए जाने के फैसले पर टिप्पणी न करते हुए केवल यह पाया था कि उन्हें हटाने के लिए न्यायोचित प्रक्रिया का पालन नहीं हुआ था। सुप्रीम कोर्ट के मुताबिक उन्हें हटाने का अधिकार केवल उन्हें नियुक्त करने वाली उस समिति का था जिसके सदस्य मुख्य न्यायाधीश, पीएम, और लोकसभा में सबसे बड़े विपक्षी दल के नेता थे।

आलोक वर्मा को अंत में इसी समिति के बहुमत के निर्णय से पदमुक्त किया गया।

10.
राहुल गाँधी ने मृतप्राय ‘जय शाह मुद्दे’ को फिर उछाल यह जताने की कोशिश की कि मोदी ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह को गलत तरीके से पैसा दे कर उनके ₹50,000 के व्यापार को ₹80 करोड़ महीने का बना दिया था। इस आरोप का ऑपइंडिया विस्तृत रूप से खण्डन अपने पोर्टल पर छाप चुका है।

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
केसरी
मैं केसरी फ़िल्म देखने गया था,,,जब से सिनेमा हॉल के बाहर निकला हुन मन मे कुछ सवाल क्रोन्ध रहे है ,,,कुछ तस्वीरें साफ हो रही है,,,कुछ चालें समझ भी आ रही है.
वामपंथी इतिहासकारों और कांग्रेसी सरकारों ने इतिहास के नाम पर हमें सिर्फ मुग़लों और गांधी-नेहरू परिवार की हफीम चटाई है,,ताकि ये क़ौम जाग न पाए,,इसे वोटर (गुलाम) बनाये रखा जा सके.हमें पाठ्यक्रम यूं पढ़ाया गया है मानो भारत का इतिहास मुग़लों से आरंभ हो कर गांधी-नेहरू पर खत्म हो जाता है...हमारे वीरों की अजय अमर गाथाओं को सुनियोजित तरीके से दफन कर दिया गया..मैंने कभी सारागढ़ी का नाम तक न सुना था न पढ़ा था,,या यूं कहिए मुझ तक सारागढ़ी का नाम आने ही नहीं दिया गया.वो तो भला हो सोशल मीडिया का जिसने हमें इस कैद से मुक्ति दिलाई... मैंने सारागढ़ी की जंग के विषय मे सर्वप्रथम सोशल मीडिया के जरिये जाना ,,सोचिए,,,कितने ही गुमनाम सपूत होंगे जिनके बलिदान व पहचान को गांधी-नेहरू के काले साये ने ढक लिया...
आखिर क्यों हमारे हीरो हमसे व हमारी पीढ़ियों से छुपा कर रखे गए??क्यों सारागढ़ी ,गुरु गोबिंदसिंह,गुरु तेग बहादुर,नेताजी,भगत सिंह जैसे बेशुमार घरतीपुत्रों के नामों से दूर रख कर एक ही खानदान व एक ही परिवार को हम पर थोपा गया??हमें हमारे इतिहास से इसलिए अनभिज्ञ रखा गया ताकि हमारी पीढियां मानसिक 'गुलाम' रहें??? या कोई एक वर्ग विशेष नाराज न हो जाए?...
याद रहे जो इतिहास को मसलते है,,इतिहास उन्हें मसल देता है
-मनोज कुरील
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
गरीबों को लालच देने वाले Rahul gandhi पहले ये बतायें की ये खैरात बाँटने को ₹3000अरब कहाँ से लाओगे,,?

Thursday, 21 March 2019

पाकिस्तान चिल्ला-चिल्ला कर कह रहा है कि अगर मोदी दोबारा पीएम बना तो हम बर्बाद हो जाएंगे.. सुनकर "अच्छा लगता है"== प्रियंका ने बाबा विश्वनाथ की पूजा की और नीरव मोदी गिरफ्तार..
वाड्रा बोला,"डार्लिंग ज्यादा पूजा मत करो..मुझे अभी जेल नहीं जाना"
== वाह: क्या जमाना आया है
भारत की तरफ से चीन को अमेरिका, इंग्लैंड और फ्रांस धमका रहें हैं। मोदी है तो मुमकिन है= आज 27 देशों के साथ
डॉलर की जगह रुपये में व्यापार होने लगा है और
visa को लात मारकर RuPay अपनाकर अरबो बच रहे हैं
गर्व है,भारत उदय पर
== पिताजी और दादी के हत्‍यारों के प्रति मनमें कोई नफरत नहीं: राहुलगांधी मोदीसे इतनी नफरत क्यों है भाई तुम्हारा धंधा बंद कर दिया क्या?
== अगर रोजगार का मतलब सिर्फ सरकारी नौकरी है तोअंबानी को भी बेरोजगारी भत्ता मिलना चाहिये
== गोधरा कांड के मुख्य आरोपी कांग्रेसी MLC याकूब को उम्र कैद ..//याद रखना इसीने ट्रेन में आग लगाई थी और ये अहमद पटेल का खास है
== जो लन्दन में बैठे चोर को नहीं छोड़ रहा, वो देश में बैठे चोरों को कैसे छोड़ेगा,कांग्रेस में चिंता की लहर...
== न दूसरी झाँसी की रानी आयेगी,न आज़ाद,न ही पटेल और न ही दूसरा मोदी आयेगा अभी भी वक्त हे सम्भल जाओ वर्ना इतिहास माफ़ नही करेगा ..//
== 6रुपये की दमदार मजबूती..बाजार ने दिए मजबूत सरकार आने के संकेत.RUPYA .74.50 से 68.50 आ गया.../
==  जब देश में एक संविधान था और सभी को समान अधिकार मिले हुए थेतो फिर कांग्रेस ने
मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को मंजूरी क्यों दी .?/
== बीजेपी आयी तो पाकिस्तान के टुकड़े
कोग्रेस आयी तो ,भारत के टुकड़े ...
निर्णय लेना है ...वोट किसको देना है
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
अनिल अम्बानी" का "राहुल गाँधी" पर जबरदस्त प्रहार..
" एक दो कोड़ी का आदमी, जिन के खानदान ने हमेशा देश को लूटा है वह हर चुनावी सभा में मुझे बदनाम करता है, मैं आज उस से कुछ सवाल करता हूँ, उम्मीद है मीडिया उस से पुछेगी ।
1. मैं ओर मेरा परिवार भारत देश को हर साल करीब 50000/- करोड़ का टेक्स देते हैं । लाखों लोगों को रोजगार, लाखों परिवार को गुजारा करने के लिये तनख्वाह देते हैं । गांधी परिवार इस देश को कितने रुपये का योगदान देता है ???? मैंने सुना है पुरा परिवार टेक्स चोरी करने के केस में कोर्ट से जमानत पर छूटा हुआ है और देश के अरबों रुपये लूट कर आपकी माँ दुनिया का चौथी सबसे अमीर महिला बन गयी है, क्या बिजनेस है आपके परिवार का, ज़रा देश की जनता को बता दीजिये, कहाँ से आया इतना पैसा आपकी माँ के पास, ज़रा ये बताइये ???
2. हम बैंको से लोन पिछले 40 वर्षों से लेते आये हैं और करोड़ों रुपये का ब्याज भी देते हैं, और हमारे जैसे हर उद्योगपति, व्यापारी और बिजनेसमेन लोन लेते हैं और गारंटी भी देते हैं । तभी बैंक गरीबों को FD पर ब्याज देते हैं । तुम बताओ तुम्हारे जैसे नेताओं और तुम्हारे जीजा जी ने बैंको से मुफ्त (बिना ब्याज) लोन क्यूँ ले रखा है ??? क्या बिजनेस है ??? किस देश में बिजनेस चलता है ?? कितनी मलकियत किस किस देश में ले रखी है ?
3. तुम्हारे जीजा जी ने 15 साल पहले 1 लाख रुपये से कौन सा बिजनेस शुरू किया था, वो कैसे 10 साल में 10,000 करोड़ की सम्पत्ति का मालिक बन गया, कहाँ से आया उसके पास इतना पैसा और इतनी ज़मीनें ? लन्दन में 2 बंगले और 6 फ्लैट लेने का पैसा आपके जीजा जी के पास कहाँ से आया ???
4. मेरे प्यारे देशवासियों, मुझे जब से पता चला ये परिवार विदेशी एजेंट है ये पार्टी देशद्रोहीयों का समर्थन करती है मैंने काँग्रेस को जबर्दस्ती का चंदा देना बंद कर दिया है, तब से ये मेरे पीछे पड़े हैं, मुझे बदनाम कर रहे हैं । वर्ना आप बताइये मुझे 5000 करोड़ की दिल्ली की एयरपोर्ट मेट्रो और मुझे मुम्बई मेट्रो का 3900 करोड़ का ठेका मनमोहन सरकार में मिला तब सरकारी कंपनी को क्यूँ नहीं दिया था ???
5. दिल्ली में (पहले DESU) DVB का बिजली सप्लाई का ठेका जो 1200 करोड़ का था वो NTPC (सरकारी कंपनी ) की जगह मुझे सोनिया गांधी के कहने पर शीला दीक्षित ने दिया था ।
6. 2004 से 2014 के बीच UP के 3, ओडिसा, तमिलनाडु, कर्नाटक, पंजाब के कुल 8 नेशनल हाईवे और प्रोजेक्ट (25350 करोड़) मेरी कंपनी रिलायंस इन्फ्रास्ट्रक्चर को काँग्रेस सरकार ने क्यूँ दिया ?? जबकि कई सरकारी कम्पनियाँ है जो ये काम कर सकती थीं ??? "
धन्यवाद
अनिल अंबानी
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
नीरव मोदी के बिजनेस पार्टनर है, अनिता सिंघवी,अविष्कार सिंघवी ,दोनों कांग्रेसी नेता अभिषेक मनु सिंघवी के पत्नी और बेटे हैं..//
== राजीव गांधी के दोस्त और राहुल गांधी के अंतरराष्ट्रीय गुरु सैम पित्रोदा का कहना है ...की कुछ लोगो की गलती की सजा पूरे पाकिस्तान को देना गलत है ..
काँग्रेज़ का हाथ आतंकियो के साथ
== ओर अंत मे सारा कीचड़ ओर देशद्रोही काँग्रेज़ में ही गिरता है 
फिर 2014 का केजरीवाल गैंग हो या 2019 का ये टुकड़े टुकड़े गैंग
== जब तक अदालत दोषी करार ना दे तब तक वाड्रा को अपराधी नही कह सकते:-कांग्रेस,
तो फिर चौकीदार को चोर  कैसे बोलते हो ख़ानदानी हरामखोरों .?